logo

Royal Enfield Electric बाइक अगले दो वर्षों में होगी लॉन्च, CEO सिद्धार्थ लाल ने किया खुलासा

 
Royal Enfield Electric बाइक अगले दो वर्षों में होगी लॉन्च, CEO सिद्धार्थ लाल ने किया खुलासा
WhatsApp Group Join Now

Mhara Hariyana News, New Dehli
परफॉर्मेंस बाइक बनाने के लिए मशहूर चेन्नई स्थित Royal Enfield (Royal Enfield) की Electric दोपहिया वाहन सेगमेंट में एंट्री करने के लिए काफी महत्वाकांक्षी योजना है। कंपनी इस समय एक नई Electric मोटरसाइकिल विकसित करने के शुरुआती चरण में है। 
आयशर मोटर्स (Royal Enfield की मूल कंपनी) के प्रबंध निदेशक और CEO सिद्धार्थ लाल के मुताबिक कंपनी सक्रिय रूप से प्रोटोटाइप की टेस्टिंग कर रही है और इसके फाइनल वर्जन की अगले दो वर्षों के भीतर भारतीय सड़कों पर आने की उम्मीद है। ई-बाइक की विकास प्रक्रिया में तेजी लाने के लिए Royal Enfield ने अपने ईवी कारोबार के व्यावसायिक पहलुओं को संभालने के लिए एक डेडिकेटेड टीम बनाई है।

Electric दोपहिया बाजार में अपने लक्ष्यों को हासिल करने के लिए Royal Enfield ने भविष्य के उत्पादों को विकसित करने और Electric वाहनों के लिए बिक्री बुनियादी ढांचे के निर्माण में लगभग 1,000 crore रुपये का निवेश करने की प्रतिबद्धता जताई है। यह निवेश 2023-24 की समयावधि के दौरान होने की योजना है। कंपनी का लक्ष्य 1.5 लाख Electric यूनिट्स की उत्पादन क्षमता तक पहुंचना है और वह इस योजना को पूरी रफ्तार और दक्षता के साथ लागू करने की तैयारी में हैं।

मिड-साइज मोटरसाइकिल सेगमेंट में बढ़ती प्रतिस्पर्धा के बावजूद, जहां Royal Enfield के पास इस समय 90 प्रतिशत बाजार हिस्सेदारी है, कंपनी इससे चिंतित नहीं है। ट्रायम्फ स्पीड 400 और हार्ले-डेविडसन X440 जैसे प्रतिस्पर्धी क्रमशः बजाज ऑटो और हीरो मोटोकॉर्प के साथ मिलकर बनाए गए हैं और बाजार में एंट्री कर चुके हैं। सिद्धार्थ लाल ने आत्मविश्वास से कहा कि Royal Enfield अपने प्रतिद्वंद्वियों से कई कदम आगे है और मध्यम से लंबी अवधि में लगभग 80 प्रतिशत बाजार हिस्सेदारी बनाए रखने के लिए तैयार है।

उन्होंने यह भी भविष्यवाणी की है कि नए प्रतिस्पर्धियों के आगमन के साथ मिड-साइज मोटरसाइकिल बाजार में महत्वपूर्ण बढ़ोतरी का अनुभव होगा। उम्मीद है कि आने वाले दशक में इसका विस्तार 10 लाख यूनिट्स से बढ़कर लगभग 15 लाख से 20 लाख यूनिट्स हो जाएगा। Royal Enfield का हालिया प्रदर्शन काफी आशाजनक है। जैसा कि 2023 की पहली तिमाही में 50 प्रतिशत के इजाफे से जाहिर होता है, पिछले वित्तीय वर्ष की समान अवधि में 611 crore रुपये की तुलना में 918 crore रुपये का शुद्ध लाभ हुआ है।