logo

हाकाल के दर्शन के लिए पैसे देना जजिया कर, नए नियमों पर आचार्य चक्रपाणि आगबबूला

Acharya Chakrapani furious over new rules to pay Jizya tax for darshan of Hakal

 
Acharya Chakrapani furious over new rules to pay Jizya tax for darshan of Hakal

Mhara Hariyana News:

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा मध्य प्रदेश के उज्जैन पहुंचने से पहले बवाल मचा हुआ है. उज्जैन के महाकाल मंदिर समिति के एक फैसले से बीजेपी-कांग्रेस आमने सामने आ गए हैं. महाकाल मंदिर समिति ने महाकाल मंदिर के गर्भ गृह में मोबाइल फोन ले जाने, सेल्फी लेने और वीडियो बनाने पर रोक लगा दी है. अब कांग्रेस इसी पर सवाल खड़ा कर रही है. कांग्रेस विधायक महेश परमार ने कहा कि महाकाल लोक के लोकार्पण के समय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी महाकाल मंदिर के गर्भ गृह में पूजा-अर्चना करने पहुंचे थे. यहां उन्होंने जाप भी किया था. तब इसका सीधा प्रसारण हुआ था.


हिंदू महासभा के अध्यक्ष आचार्य चक्रपाणि महाकाल ज्योतिर्लिंग मंदिर के गर्भगृह में दर्शन के लिए शुल्क निर्धारित किए जाने का पुरजोर विरोध करते हुए इसे लोगों की आस्था का अपमान बताते हैं. आचार्य चक्रपाणि के अनुसार, यह एक तरह से सरकार की तरफ से लगाया जजिया कर है, जिसे सरकार देश के तमाम मंदिरों में लगा रही है. यह भगवान के नाम पर दलाली है, जिसे हम चलने नहीं देंगे. आचार्य चक्रपाणि सूबे की भाजपा सरकार को मुगलिया सरकार बताते हुए उसके खिलाफ जल्दी ही न सिर्फ आदोलन छेड़ने की बल्कि उसके इस निर्णय के खिलाफ कोर्ट में दरवाजा खटखटाने की भी बात कहते हैं.

मंदिरों में दर्शन-पूजन के लिए हो एक समान नियम
देश के तमाम बड़े मंदिरों पर वीवीआईपी टिकट व्यवस्था को गलत बताते हुए अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष रविंद्र पुरी जी महाराज कहते हैं कि देश के किसी भी मंदिर में यह नियम नहीं होना चाहिए. यदि यह सब नहीं रुकता है तो इसके खिलाफ हमें कोर्ट का दरवाजा खटखटाना होगा. रविंद्र पुरी महाराज के अनुसार, देश के सभी मंदिरों में प्रवेश और दर्शन-पूजन के लिए एक समान नियम होने चाहिए. गरीब और धनवान व्यक्ति के लिए अलग-अलग नियम नहीं हो सकते हैं. इसके लिए वे शीघ्र ही मंदिर प्रशासन से बात करेंगे.

पीएम मोदी ने कैसे फोटो खिंचाई- प्रमोद कृष्णम
वहीं एक न्यूज चैनल से बातचीत में कल्कि पीठाधीश्वर व कांग्रेस नेता आचार्य प्रमोद कृष्णम ने कहा कि उज्जैन के सांसद और शिवराज सरकार के मंत्री कोरा झूठ बोल रहे हैं. कमलनाथ की जब मध्य प्रदेश में सरकार थी, तब उन्होंने महाकाल सहित मध्य प्रदेश के कई मंदिरों के सुंदरीकरण, जीर्णोद्धार का बीणा उठाया था. रही बात महाकाल में फोटो खिंचाने की तो वहां पर फोटो खिंचवाना प्रतिबंधित कब से था. अगर प्रतिबंधिथ था तो पीएम मोदी ने कैसे फोटो खिंचाई. कंप्यूटर बाबा ने जब मेरा और कांग्रेस का समर्थन किया तो इनका आश्रम ढहा दिया गया. जब तक बीजेपी के साथ तो तब तक सब कुछ अच्छा था. आखिर बीजेपी बताए कि हिंदू विरोधी कौन है. ये लोग कंग्रेस को हिंदू विरोधी साबित करना चाहते हैं.

20 नवंबर को बुरहानपुर के रास्ते MP में प्रवेश करेगी यात्रा
कांग्रेस ने कहा कि यह भेदभाव की राजनीति है. कांग्रेस ने गर्भ गृह में दर्शन के समय फोटो पर प्रतिबंध लगाने पर सवाल खड़े किए हैं. बता दें, कांग्रेस नेता राहुल गांधी भारत जोड़ो यात्रा लेकर 20 नवंबर को बुरहानपुर पहुंच रहे हैं. उनकी यात्रा मालवा और निमाड़ इलाके से गुजरेगी. उज्जैन में महाकाल के दर्शन और पूजन का कार्यक्रम है. हो सकता है प्रियंका गांधी भी इसमें शामिल होने उज्जैन पहुंचें. उससे ठीक पहले महाकाल मंदिर के गर्भगृह में फोटो लेने पर रोक लगा दी गयी है.

राहुल गांधी महाकाल के भक्त हैं- कांग्रेस विधायक
कांग्रेस विधायक महेश परमार के मुताबिक, राहुल गांधी का एक दिसंबर को महाकाल मंदिर में दर्शन का कार्यक्रम होना है. राहुल गांधी महाकाल के भक्त हैं और वह पूरी आस्था और श्रद्धा के साथ पूजा-अर्चना करने वाले हैं, लेकिन उनके दर्शन से पहले ही महाकाल के गर्भ गृह और नंदीहाल में फोन के इस्तेमाल, सेल्फी लेने और वीडियो बनाने पर रोक लगाना राजनीतिक मंशा को जाहिर करता है.