logo

Amazon Layoff : छंटनी पर सरकार ने अमेजन इंडिया को किया तलब

Amazon Layoff: Government summons Amazon India on retrenchment

 
Amazon Layoff

Mhara Hariyana News:

Amazon Layoff in India : केंद्रीय श्रम मंत्रालय (Labor Ministry) ने Amazon India की ओर से कथित तौर पर जबरन नौकरी से निकालने के मामले में बुधवार को अमेजन इंडिया को बेंगलुरु में डिप्टी चीफ लेबर कमिश्नर (Deputy Chief Labor Commissioner) के सामने पेश होने के लिए बोला गया है. श्रम मंत्रालय की ओर से मंगलवार को जारी नोटिस के अनुसार, “आप (अमेजन) से अनुरोध है कि इस मामले में सभी प्रासंगिक रिकॉर्ड के साथ या तो व्यक्तिगत रूप से या किसी अधिकृत प्रतिनिधि के माध्यम से दी गई तारीख और समय पर कार्यालय में उपस्थित हों.”


आईटी कंपनियों के कर्मचारियों के अधिकारों के लिए काम करने वाली पुणे स्थित यूनियन एनआईटीईएस (NITES) ने पिछले हफ्ते कहा था कि उसने एक याचिका दायर की है और केंद्र सरकार और राज्य श्रम अधिकारियों से “अनैतिक और अवैध छंटनी” के संबंध में जांच करने का अनुरोध किया है.

इस तरह से अमेजन नहीं कर सकता है छंटनी

NITES के अध्यक्ष हरप्रीत सिंह सलूजा ने कहा था कि NITES भारत में Amazon द्वारा शुरू की गई अनैतिक और अवैध छंटनी की कड़ी निंदा करता है. देश का कानून अमेजन की पॉलिसीज से ऊपर है. औद्योगिक विवाद अधिनियम के प्रावधानों के अनुसार, नियोक्ता उपयुक्त सरकार की पूर्व अनुमति के बिना किसी भी कर्मचारी की छंटनी नहीं कर सकता है. अमेजन के कर्मचारी जिन्होंने कम से कम एक वर्ष की निरंतर सेवा की है, उन्हें तब तक नहीं हटाया जा सकता जब तक कि उन्हें तीन महीने पहले नोटिस नहीं दिया जाता है और उपयुक्त सरकार से पूर्व अनुमति नहीं मिलती है.

ई-कॉमर्स की दिग्गज कंपनी ने “असामान्य और अनिश्चित व्यापक आर्थिक वातावरण” के बीच कंपनी में कर्मचारियों की छंटनी शुरू कर दी है और अपने कर्मचारियों की संख्या में 10,000 या 3 प्रतिशत की कटौती करने की योजना बना रही है. इसके सीईओ एंडी जेसी ने भी कहा है कि अमेजन 2023 में नौकरियों में कटौती करना जारी रखेगा.

इन कंपनियों ने लेऑफ का कर दिया है ऐलान

आईटी सेक्टर में लेऑफ सीरीज के तहत अमेजन से पहले, मेटा और ट्विटर ने भी कर्मचारियों की छंटनी की. फेसबुक की मूल कंपनी मेटा प्लेटफॉर्म्स के सीईओ मार्क जुकरबर्ग ने 9 नवंबर को कहा कि कंपनी ने अपनी टीम के साइज को लगभग 13 प्रतिशत कम करने और 11,000 से अधिक कर्मचारियों को जाने देने का फैसला किया है. ट्विटर ने भी अपने 50 फीसदी कर्मचारियों की छंटनी कर दी है. अब, Google और HP भी छंटनी की योजना बना रहे हैं.