logo

Gold Price Today: 53,000 रुपये के नीचे आया सोना, क्या यही है खरीदने का सही मौका?

Gold Price Today: Gold came below Rs 53,000, is this the right opportunity to buy?

 
Gold Price Today: Gold came below Rs 53,000, is this the right opportunity to buy?

Mhara Hariyana News:
सोने की कीमतों में सोमवार को गिरावट आई है. वैश्विक बाजार में नकारात्मक ट्रेंड की वजह से Gold गिरा है. मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज यानी MCX पर गोल्ड फ्यूचर्स 73 रुपये या 0.14 फीसदी गिरकर 52,515 रुपये प्रति 10 ग्राम पर ट्रेड कर रहा है. वहीं, एमसीएक्स पर Silver की कीमत 0.78 फीसदी या 472 रुपये की गिरावट के साथ 60,403 रुपये प्रति किलोग्राम पर पहुंच गई है. वैश्विक बाजार में, सोने में गिरावट देखी गई, क्योंकि अमेरिकी फेडरल रिजर्व से नीतिगत दरों में बढ़ोतरी के संकेत मिले.


अंतरराष्ट्रीय बाजार में गिरावट से पड़ा असर
स्पॉट गोल्ड 0.2 फीसदी गिरकर 1,746.65 डॉलर प्रति औंस पर पहुंच गया. जबकि, यूएस गोल्ड फ्यूचर्स 0.4 फीसदी की गिरावट के साथ 1,747.90 डॉलर पर आ गया. सोने और चांदी की कीमत में गिरावट के साथ डॉलर में सोमवार को थोड़ा उछाल आया है. सुबह 10 बजे के करीब, यूएस डॉलर इंडैक्स फ्यूचर्स 0.35 फीसदी की बढ़ोतरी के साथ 107.200 पर था. इसके साथ, रुपया अपने पिछले बंद के मुकाबले 16 पैसे की गिरावट के साथ अमेरिकी डॉलर के मुकाबले 81.85 पर पहुंच गया.

इस बीच तेल की कीमतें सोमवार को अपने करीब दो महीने के निचले स्तर पर मौजूद हैं. ब्रेंट क्रूड फ्यूचर्स 1.1 फीसदी की गिरावट के साथ 86.7 डॉलर प्रति बैरल पर मौजूद है. जबकि, WTI फ्यूचर्स 0.9 फीसदी की गिरावट के साथ 70.4 डॉलर प्रति बैरल पर ट्रेड कर रहा है.

भारतीय शेयर बाजार को देखें, तो बेंचमार्क बीएसई सेंसेक्स और एनएसई निफ्टी 50 सोमवार को शुरुआती सत्र में मिले-जुले वैश्विक संकेतों की वजह से गिरावट के साथ खुला.

सोने में जारी रह सकता है उतार-चढ़ाव
एक्सपर्ट्स के मुताबिक, सोने में उतार-चढ़ाव बना रह सकता है, जब तक फेडरल रिजर्व से किसी तरह का साफ संकेत नहीं मिलता है. इस हफ्ते यूएस फेडरल रिजर्व से आई प्रतिक्रिया और उम्मीद से ज्यादा मजबूत रिटेल सेल के डेटा ने अमेरिका में आक्रामक ब्याज दरों में बढ़ोतरी को कम किए जाने की कुछ उम्मीदों को खत्म कर दिया है.

रॉयटर्स के एक पोल के मुताबिक, फेड द्वारा दिसंबर में दरों में 50 बेसिस प्वॉइंट्स की छोटी बढ़ोतरी किए जाने की उम्मीद है. इससे पहले लगातार चार बार पॉलिसी रेट में 75 बेसिस प्वॉइंट्स का बड़ा इजाफा किया गया है.