logo

ब्रह्मोस घटना पर IAEA ने दिया भारत का साथ तो भड़का पाकिस्तान, कहा- गलत रिपोर्टिंग हुई

IAEA supported India on BrahMos incident, then Pakistan got angry, said – wrong reporting hap
 
IAEA supported India on BrahMos incident, then Pakistan got angry, said – wrong reporting hap

Mhara Hariyana News:

पाकिस्तान ने एक बार फिर दोहराया है कि इस साल 9 मार्च को भारत की तरफ से पाकिस्तान में दुर्घटनावश ब्रह्मोस मिसाइल दागी गई थी, जिसने भारत के आचरण को लेकर गंभीर चिंताएं पैदा कीं. इस संबंध में पाकिस्तान के विदेश कार्यालय ने एक बयान जारी किया है, जिसमें उसने इस घटना के संबंध में भारतीय मीडिया पर भ्रामक रिपोर्टिंग करने का आरोप लगाया है. पाकिस्तान का कहना है कि इंटरनेशनल एटॉमिक एनर्जी एजेंसी (IAEA) के डीजी राफेल मारियानो ग्रॉसी के बयान को भारतीय मीडिया ने बार-बार गलत तरीके से पेश किया.


पाकिस्तान की तरफ से कहा गया है कि भारतीय मीडिया ने IAEA के महानिदेशक के बयान को बार-बार गलत बताया है, जिसमें कहा गया है कि मिसाइल घटना IAEA के लिए चिंता का विषय नहीं है. FO ने उपलब्ध ट्रांसक्रिप्ट का हवाला दिया और कहा कि डीजी आईएईए से जब पूछा गया कि क्या IAEA ने घटना के बारे में भारत सरकार से विवरण मांगा तो उन्होंने केवल ‘NO’ कहा.

पाकिस्तान की तरफ से कहा गया कि इसलिए, भारतीय मीडिया के लिए यह रिपोर्ट करना उचित होता कि IAEA का इस क्षेत्र में कोई अधिकार नहीं है.मिसाइल घटना को कम करने के लिए डीजी की टिप्पणी को जानबूझकर गलत नहीं समझा जा सकता है, जिसमें क्षेत्रीय और वैश्विक सुरक्षा के लिए गंभीर निहितार्थ शामिल हैं.

भारत सरकार ने नहीं मांगा था जवाब: IAEA
अंतरराष्ट्रीय परमाणु निगरानी संस्था आईएईए ने हाल ही में कहा कि वह ब्रह्मोस मिसाइल के हालिया मिसफायर को विशिष्ट चिंता के किसी भी कारण के रूप में नहीं देखती है और यह घटना किसी भी तरह से भारत में परमाणु हथियारों या सामग्री की सुरक्षा पर सवाल नहीं उठाती है. राफेल मारियानो ग्रॉसी ने एक इंटरव्यू में कहा कि इस घटना को जोखिम के रूप में नहीं देखा गया था और इस मुद्दे पर भारत सरकार के साथ कोई परामर्श नहीं किया गया था.

दरअसल, जब उनसे इस घटना के संबंध में सवाल किया गया कि क्या भारत सरकार से कोई IAEA ने कोई जानकारी मांगी तो उन्होंने मना कर दिया. यह पूछे जाने पर कि क्या इस घटना ने देश में परमाणु सामग्री की सुरक्षा के बारे में संदेह पैदा किया तो उन्होंने इसका भी नकारात्मक जवाब दिया.