logo

भारतीय रेलवे ने भारत गौरव ट्रेन में लगाए ये खास कोच, यात्रियों को मिलेगी सहूलियत

Indian Railways has put these special coaches in Bharat Gaurav train, passengers will get convenience

 
Indian Railways has put these special coaches in Bharat Gaurav train, passengers will get convenience

Mhara Hariyana News:

Bharat Gaurav Trains : भारतीय रेलवे ने यात्रियों की सुविधा के लिए भारत गौरव ट्रेन में LHB कोच लगाने का फैसला किया है. जिससे यात्रियों को बेहतर सुविधाएं प्रदान की जा सके. भारतीय रेलवे बोर्ड द्वारा रेल आधारित पर्यटन को बढ़ावा देने के प्रयासों को और तेज करने के लिए भारत गौरव ट्रेन योजना (Bharat Gaurav Trains Scheme) की समीक्षा की गई. जिसके बाद से फैसला लिया गया कि भारत गौरव ट्रेन योजना के तहत केवल लिंके हॉफमैन बुश कोच (LHB Coaches) आवंटित किए जाएंगे.


रेल पर्यटन (Rail Tourism) को बढ़ावा देने और उत्पादों को और अधिक व्यवहार्य बनाने के मकसद से रेल मंत्रालय ने इस योजना के तहत भारत गौरव ट्रेनों के संचालन के लिए निश्चित और परिवर्तनीय ढुलाई शुल्क में ओवरहेड कंपोनेंट नहीं लगाने का फैसला लिया है. भारत गौरव ट्रेन योजना (Bharat Gaurav Trains Scheme) के तहत रेल टूरिज्म को बढ़ावा देने के लिए भारतीय रेल द्वारा लगभग 33% रियायत दी जाएगी.

वहीं मौजूदा सेवा प्रदाताओं, जिन्हें पहले ही भारत गौरव ट्रेन नीति के ढांचे के तहत आईसीएफ रेक (ICF rakes) आवंटित किए जा चुके हैं, उन्हे संशोधित शुल्कों पर समझौते की शेष अवधि के लिए एलएचबी रेक पर स्विच करने का विकल्प दिया जाएगा. हालांकि, अगर वे पहले से आवंटित रेकों को जारी रखने का विकल्प चुनते हैं, तो संशोधित शुल्कों का लाभ नए प्रभाव से उपलब्ध होगा. लागू संशोधित शुल्कों को अधिसूचित कर दिया गया है.

कोचों की ये खासियत
Linke Hofmann Busch कोच आधुनिक तकनीक पर आधारित हैं. ICF कोच के मुकाबले LBH कोच का वजन काफी कम है. इसलिए इन डिब्बों के साथ ट्रेनें पहले के मुकाबले तेज गति से दौड़ सकेगी. सुरक्षा और सुविधा के लिहाज से भी LHB कोच काफी बेहतर है. एलएचबी कोच ज्यादा लंबे होते हैं. इसके स्लीपर में 80 सीट और थर्ड एसी कोच में 72 सीट होती हैं. बता दें कि LHB Coach को जर्मनी के लिंक-होफमैन-बुश द्वारा तैयार किया गया, जिसके बाद से इसका निर्माण भारत में ही किया जा रहा है. एलएचबी कोच स्टेनलेस स्टील से बनी हुई होती है इसलिए हल्की होती है. इसका वजन ICF कोच के मुकाबले करीब 10% कम होता है.

डिस्क ब्रेक का किया गया इस्तेमाल
एलएचबी कोच (LHB Coach) में डिस्क ब्रेक का इस्तेमाल किया गया है, इसलिए ये बेहद कम दूरी में रुक जाती है. इसमें ब्रेक लगाने पर 160 kmph की रफ्तार में चल रही ट्रेन 1200 मीटर के अंदर रुक जाती है. एलएचबी कोच का सस्पेंशन हाइड्रोलिक होता है, इसलिए ये कम शोर करता है. साथ ही इसमें साइड सस्पेंशन भी होता जो यात्रियों को झटकों को महसूस नहीं होने देता है. इससे यात्रियों को भी ज्यादा परेशानियों का सामना नहीं करना पड़ेगा.