logo

चीन में फिर लॉकडाउन; एक दिन में रिकॉर्ड 30 हजार से ज्यादा नए केस, सड़कों पर उतरे लोग

Lockdown again in China; Record more than 30 thousand new cases in one day, people came on the streets

 
Lockdown again in China; Record more than 30 thousand new cases in one day, people came on the streets

Mhara Hariyana News:

चीन में कोरोना वायरस के मामले फिर से बढ़ते दिख रहे हैं और महामारी की शुरुआत के बाद से इस देश में रोजाना दर्ज हो रहे कोविड मामले अब अपने उच्चतम स्तर पर पहुंच गया है. आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार, देश में एक दिन में 30 हजार से ज्यादा नए मामले सामने आए हैं. बढ़ते मामलों को देखते हुए चीन में फिर से कई तरह की पाबंदियां लगाई जा रही है. वहीं झोंगझोउ में लॉकडाउन समेत कई सख्त कोविड नियमों और वेतन विवाद को लेकर जबरदस्त नाराजगी देखी गई और कर्मचारियों तथा पुलिसकर्मियों के बीच झड़प भी हुई.


नेशनल हेल्थ ब्यूरो ने कहा कि चीन में बुधवार को 31,454 मामले दर्ज किए जिसमें 27,517 मामले बिना किसी लक्षण के थे. हालांकि ये मामले चीन की 1.4 बिलियन की विशाल आबादी की तुलना में यह संख्या अपेक्षाकृत बेहद कम है, लेकिन बीजिंग की सख्त शून्य-कोविड पॉलिसी के तहत, छोटे-छोटे मामलों के सामने आने के बाद पूरे शहरों को बंद किया जा सकता है और कोरोना से संक्रमित लोगों को बेहद सख्त क्वारंटीन में रखा जा सकता है.

अप्रैल के बाद चीन में डेली केस में रिकॉर्ड वृद्धि
कोरोना के मामले के तीसरे साल में जाने के बीच चीन में एक के बाद एक पाबंदियों और सख्त गाइडलाइंस ने लोगों को थका दिया है और गुस्से में भी भर दिया है. लगातार पाबंदियों ने दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था वाले देश में छिटपुट विरोध और उत्पादकता के स्तर को प्रभावित किया है.

अब बुधवार को एक दिन में 31,454 दर्ज डेली केस अप्रैल के मध्य में दर्ज किए गए 29,390 मामलों से कहीं अधिक हैं, जब मेगा सिटी शंघाई में खस्त लॉकडाउन लगा दिया गया था और इस दौरान स्थानीय लोगों को खाना खरीदने और मेडिकल सुविधा हासिल करने के लिए संघर्ष करना पड़ रहा था.

आईफोन फैक्टरी में प्रदर्शनकारी कर्मचारियों को पीटा गया
दूसरी ओर, चीन स्थित एप्पल आईफोन के दुनिया के सबसे बड़े कारखाने में कर्मचारियों को कोरोना वायरस के कारण लागू प्रतिबंधों के बीच संविदा संबंधी विवाद के चलते पीटा गया और हिरासत में रखा गया. सोशल मीडिया पर बुधवार को पोस्ट किए गए कुछ वीडियो में यह नजर आ रहा है और प्रत्यक्षदर्शियों ने भी यह जानकारी दी.

चीनी सोशल मीडिया पर उपलब्ध झोंगझोउ स्थित कारखाने के वीडियो में नकाब पहने हजारों प्रदर्शनकारी सफेद सुरक्षात्मक सूट पहने पुलिसकर्मियों का सामना करते नजर आ रहे हैं. एक व्यक्ति के सिर पर डंडा मारा गया और एक अन्य को उसके हाथ पीछे की ओर बांधकर ले जाया गया.सोशल मीडिया पर की गई पोस्ट में कहा गया कि ये लोग संविदा के उल्लंघन का विरोध कर रहे थे.

कर्मचारियों के लिए शर्तों में बदलाव पर हंगामा
कोरोना संक्रमण के कारण चीन में लंबे समय तक दुकानें एवं कार्यालय बंद रहे और लाखों लोगों को कई सप्ताह तक घरों में बंद रहना पड़ा. इन प्रतिबंधों से परेशान लोगों ने कुछ इलाकों में प्रदर्शन किए हैं. पिछले महीने हजारों कर्मचारी कोरोना के खिलाफ सुरक्षा के अपर्याप्त उपायों और बीमार पड़ने वाले सहकर्मियों को कोई मदद नहीं मिलने की शिकायतों के कारण ताइवान स्थित फॉक्सकॉन टेक्नोलॉजी ग्रुप कंपनी द्वारा संचालित कारखाना छोड़कर चले गए थे.

कारखाने के कर्मचारी ली संशान ने बताया कि अधिक वेतन के प्रस्ताव के कारण नौकरी करने आए नए कर्मचारियों के लिए शर्तों में बदलाव किए जाने पर उन्होंने मंगलवार को प्रदर्शन किए. ली (28) ने कहा कि उन्होंने दो महीने के काम के लिए 25,000 युआन (3,500 अमेरिकी डालर) का वादा करने वाले विज्ञापन के कारण अपनी नौकरी छोड़ दी थी. उन्होंने कहा कि कर्मचारियों को बताया गया कि 25,000 युआन प्राप्त करने के लिए उन्हें कम वेतन पर दो अतिरिक्त महीने काम करना होगा, जिससे वे नाराज हो गए.

ली ने कहा, फॉक्सकॉन ने भर्ती के लिए बहुत लुभावना प्रस्ताव दिया और देश भर से लोग काम करने आए, लेकिन उन्हें पता चला कि उन्हें मूर्ख बनाया जा रहा है. फॉक्सकॉन ने इस बात का खंडन किया कि संक्रमित कर्मचारियों को उचित सुविधाएं नहीं दी गईं.