logo

कोई दोष नहीं दे रहे थे… जिनपिंग-ट्रूडो के नोंकझोंक वाली VIDEO पर चीन की सफाई

No one was blaming… China's clarification on Jinping-Trudeau's tussle VIDEO

 
No one was blaming… China's clarification on Jinping-Trudeau's tussle VIDEO

Mhara Hariyana News:

16 नवंबर को इंडोनेशिया के बाली से चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग और कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो का एक वीडियो सामने आया, जो कि खूब वायरल हुआ. इस वीडियो को लेकर दावा किया गया कि जिनपिंग और ट्रूडो के बीच किसी बात पर गहमागहमी हो गई. अब इस पर चीन की तरफ से स्पष्टीकरण आया है. इसमें कहा गया है कि चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग बाली में G20 शिखर सम्मेलन के मौके पर शूट किए गए वीडियो में कनाडा के पीएम जस्टिन ट्रूडो की आलोचना नहीं कर रहे थे.


चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि मुझे नहीं लगता कि इसे जिनपिंग द्वारा किसी की आलोचना करने या दोष देने के रूप में समझा जाना चाहिए. उन्होंने कहा कि बीजिंग तब तक स्पष्ट आदान-प्रदान का समर्थन करता है जब तक वे समान आधार पर आयोजित किए जाते हैं. चीन उम्मीद करता है कि कनाडा द्विपक्षीय संबंधों को बेहतर बनाने के लिए एक्शन लेगा.

प्रवक्ता माओ निंग ने कहा कि आपने जिस वीडियो का उल्लेख किया है, वह वास्तव में जी20 शिखर सम्मेलन के दौरान दोनों नेताओं के बीच हुई एक संक्षिप्त बातचीत थी. यह बहुत सामान्य है. मुझे नहीं लगता कि इसकी व्याख्या चेयरमैन शी द्वारा किसी की आलोचना या आरोप लगाने के रूप में की जानी चाहिए.


दरअसल, बाली में जिनपिंग ने ट्रूडो साथ हुई मुलाकात में इस बात पर नाराजगी जताई कि उनकी पहले की भेंट में हुई बातचीत मीडिया में लीक हो गई. यह घटना टेलीविजन के कैमरों के सामने हुई, जिसमें दिख रहा है कि जिनपिंग इस बात से नाराज हैं और ट्रूडो से आपत्ति जता रहे हैं कि उन्होंने पहले की मुलाकातों में जो भी बातचीत की थी वे मीडिया में लीक हो गई.

यह संवाद का तरीका नहीं है: जिनपिंग
चीनी राष्ट्रपति ने जी-20 बैठक के समापन सत्र के इतर एक अनुवादक के जरिए ट्रूडो से कहा कि हम हर जिस चीज पर चर्चा करते हैं उसे अखबार को लीक कर दिया जाता है। यह उचित नहीं है. यह संवाद का तरीका नहीं है. अगर गंभीरता हो तो हमारे बीच अच्छी बातचीत हो सकती हैं. अन्यथा मुश्किल होगी. जिनपिंग ने चीनी भाषा में यह बात कही जिसका अनुवाद अंग्रेजी में करके उनके आधिकारिक दुभाषिया ने इसे ट्रूडो से कहा.

ट्रूडो भी नहीं रूके और उन्होंने अनुवादक को बीच में टोकते हुए कहा कि हम स्वतंत्र, खुले और स्पष्ट संवाद में विश्वास करते हैं और यही हम करते रहेंगे. हम रचनात्मक रूप से एक साथ काम करना जारी रखेंगे लेकिन ऐसी चीजें होंगी जिन पर हम असहमत होंगे. इस पर जिनपिंग ने कहा कि पहले हम स्थितियां बनाएं, जिसके बाद दोनों ने हाथ मिलाया और अलग-अलग दिशा में चले गए.

जिनपिंग के साथ बातचीत के बारे में पूछे जाने पर ट्रूडो ने कहा कि हर बातचीत आसान नहीं होने वाली है, लेकिन यह अत्यंत महत्वपूर्ण है कि हम उन चीजों के लिए खड़े हों जो कनाडाई लोगों के लिए अहम हैं.