logo
महारानी एलिजाबेथ-II का अंतिम संस्कार: स्टेट फ्यूनरल खत्म, अब प्राइवेट सेरेमनी होगी
रात 12 बजे दफनाया जाएगा; प्रिंस हैरी ने सैल्यूट नहीं किया
 
महारानी एलिजाबेथ-II का अंतिम संस्कार:स्टेट फ्यूनरल खत्म, अब प्राइवेट सेरेमनी होगी, रात 12 बजे दफनाया जाएगा; प्रिंस हैरी ने सैल्यूट नहीं किया

Mhara Hariyana News

क्वीन एलिजाबेथ-II के अंतिम संस्कार की रस्में जारी हैं। स्टेट फ्यूनरल यानी राजकीय सम्मान की रस्में पूरी की जा चुकी हैं। अब प्राइवेट फ्यूनरल की रस्में शुरू होंगी। इसके लिए उनके पार्थिव शरीर को विंडसर कैसल लाया जा चुका है। किंग चार्ल्स की अगुआई में रॉयल फैमिली यहां पहुंच चुकी है। क्वीन को भारतीय समय के अनुसार रात करीब 12 बजे सेंट जॉर्ज मेमोरियल चैपल में पति प्रिंस फिलिप की कब्र के पास दफनाया जाएगा।

इसके पहले, स्टेट फ्यूनरल फंक्शन में हेड ऑफ द स्टेट्स ने क्वीन को श्रद्धांजलि दी। इनमें भारत की राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू और अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन भी शामिल थे। शाही परिवार के सदस्य का दर्जा छोड़ चुके किंग चार्ल्स के बेटे प्रिंस हैरी ने क्वीन एलिजाबेथ के कॉफिन को सैल्यूट नहीं किया। इसकी काफी चर्चा हो रही है।

क्वीन का अंतिम संस्कार इसी विंडसर कैसल के जॉर्ज मेमोरियल चैपल में किया जाएगा। इसमें रॉयल फैमिली, कुछ प्रीस्ट और क्वीन का पर्सनल स्टाफ ही शिरकत कर पाएगा।
क्वीन का अंतिम संस्कार इसी विंडसर कैसल के जॉर्ज मेमोरियल चैपल में किया जाएगा। इसमें रॉयल फैमिली, कुछ प्रीस्ट और क्वीन का पर्सनल स्टाफ ही शिरकत कर पाएगा।
वेस्टमिंस्टर ऐबे में हुआ स्टेट फ्यूनरल
इसके पहले, रॉयल गार्ड्स की परेड के साथ क्वीन का कॉफिन यानी ताबूत वेस्टमिंस्टर हॉल से वेस्टमिंस्टर ऐबे लाया गया। शाही परिवार के लोग गन कैरीज (तोपगाड़ी) के पीछे चल रहे थे।

शाही परंपरा के मुताबिक क्वीन एलिजाबेथ के पार्थिव शरीर को वेस्टमिंस्टर हॉल से वेस्टमिंस्टर ऐबे लाया गया। यहां स्टेट फ्यूनरल की रस्में पूरी की गईं।
शाही परंपरा के मुताबिक क्वीन एलिजाबेथ के पार्थिव शरीर को वेस्टमिंस्टर हॉल से वेस्टमिंस्टर ऐबे लाया गया। यहां स्टेट फ्यूनरल की रस्में पूरी की गईं।
अंतिम संस्कार की तमाम रस्में डीन ऑफ वेस्टमिंस्टर डेविड होयले ने पूरी कराईं। उनके साथ केंटरबरी के आर्कबिशप जस्टिन वेल्बी मौजूद रहे। शाही रीति-रिवाजों के मुताबिक क्वीन के निधन पर शोक जताया गया, प्रेयर्स हुईं। प्राइम मिनिस्टर लिज ट्रस ने छोटा भाषण दिया।

शाही परिवार की तरफ से एक प्रस्ताव पढ़ा गया। फिर दो मिनट का मौन रखा गया। इसके साथ ही स्टेट फ्यूनरल की रस्में पूरी हो गईं। इस दौरान भारत की राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू, अमेरिकन प्रेसिडेंट बाइडेन समेत दुनियाभर से आए राष्ट्राध्यक्ष मौजूद रहे। स्टेट फ्यूनरल के बाद बाइडेन समेत कुछ राष्ट्राध्यक्ष अपने-अपने देशों के लिए रवाना हो गए।

प्राइवेट फ्यूनरल में क्या होगा
वेलिंग्टन आर्च से ताबूत विंडसर कैसल ले जाया जाएगा। यहां के सेंट जॉर्ज मेमोरियल चैपल में डीन ऑफ विंडसर रॉयल फैमिली क्वीन के पर्सनल स्टाफ के साथ प्रेयर करेंगे। ताबूत रॉयल वॉल्ट में रखा जाएगा। केंटरबरी के आर्कबिशप आशीष वचन (Blessings) बोलेंगे। रॉयल बैंड शोक धुन बजाएगा। रॉयल जूलर (शाही सुनार) क्वीन के ताबूत से क्राउन निकालेंगे। इसे राजमहल ले जाया जाएगा।

क्वीन का निधन स्कॉटलैंड में 8 सितंबर को 96 साल की उम्र में हुआ था। क्वीन के अंतिम सफर का पूरा रूट नीचे दिए ग्राफिक में देख सकते हैं...


क्वीन के ताबूत के पीछे चले किंग चार्ल्स-III
क्वीन के पार्थिव शरीर को ऐबे लाते समय ब्रिटेन के नए राजा यानी किंग चार्ल्स-III उनके ताबूत के पीछे चल रहे थे। इस दौरान प्रिंस ऑफ वेल्स और किंग चार्ल्स के बेटे विलियम भी साथ थे।

शाही परिवार के सदस्य अंतिम यात्रा में शामिल हुए। इसमें प्रिंसेस ऑफ वेल्स केट मिडलटन अपने बच्चों के साथ दिखाई दे रही हैं।
शाही परिवार के सदस्य अंतिम यात्रा में शामिल हुए। इसमें प्रिंसेस ऑफ वेल्स केट मिडलटन अपने बच्चों के साथ दिखाई दे रही हैं।
प्रिंस हैरी ने कॉफिन को सैल्यूट नहीं किया
‘न्यूयॉर्क पोस्ट’ ने प्रिंस हैरी का एक फोटो पोस्ट किया। इसमें रॉयल गार्ड्स क्वीन एलिजाबेथ के कॉफिन को सैल्यूट करते नजर आ रहे हैं। हैरी के दोनों हाथ सीधे पैरों की तरफ हैं। फिलहाल, यह साफ नहीं है कि हैरी को रॉयल सैल्यूट से रोका गया या उन्होंने खुद ऐसा किया। दरअसल, दो साल पहले हैरी और पत्नी मेगन मार्केल रॉयल स्टेट्स छोड़ चुके हैं और अमेरिका में रहते हैं।

जब हैरी सावधान मुद्रा में खड़े थे, तब उनके बड़े भाई प्रिंस विलियम और परिवार के बाकी सदस्य सैल्यूट कर रहे थे। शाही परिवार के एक और सदस्य प्रिंस एंड्रू ने भी सैल्यूट नहीं किया। पिछले साल वो सेक्स स्कैंडल को लेकर विवादों में थे और क्वीन ने उन्हें बचाया था। खास बात यह है कि हैरी ‘प्री फ्यूनरल’ सेरेमनी में भी शामिल नहीं हुए थे। हालांकि वो क्वीन के निधन वाले दिन यानी 8 सितंबर से ही लंदन में हैं।


गन कैरिज पर ले जाया गया क्वीन का ताबूत
शाही परंपराओं के मुताबिक, क्वीन का अंतिम संस्कार उनके निधन के 10 दिन बाद किया जा रहा है। 12 सितंबर से वेस्टमिंस्टर हॉल में रखे महारानी के ताबूत को गन कैरिज में वेस्टमिंस्टर ऐबे लाया गया। इसे 142 रॉयल नेवी सेलर्स ने खींचा। इसी कैरिज का इस्तेमाल एडवर्ड VII, जॉर्ज V, जॉर्ज VI और सर विंस्टन चर्चिल के अंतिम संस्कार के दौरान भी किया गया था।

क्वीन का कॉफिन जब वेस्टमिंस्टर ऐबे से निकालकर पार्लियामेंट स्क्वायर लाया गया तो उसे रॉयल ब्रिटिश आर्मी की तीनों सेनाओं की तरफ से गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया। इसके साथ रॉयल मरीन्स का बैंड भी था।
क्वीन का कॉफिन जब वेस्टमिंस्टर ऐबे से निकालकर पार्लियामेंट स्क्वायर लाया गया तो उसे रॉयल ब्रिटिश आर्मी की तीनों सेनाओं की तरफ से गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया। इसके साथ रॉयल मरीन्स का बैंड भी था।
टावर ऑफ लंदन ले जाए जाएंगे शाही प्रतीक
महारानी एलिजाबेथ के पार्थिव शरीर को जिस ताबूत में रखा गया, उसे रॉयल स्टैंडर्ड यानी शाही कपड़े में लपेटा गया। ताबूत को वेस्टमिंस्टर हॉल में रखे जाने के बाद इस पर इंपीरियल स्टेट क्राउन यानी राजमुकुट रखा गया। राजशाही का प्रतीक ऑर्ब यानी राजप्रतीक और स्कैप्टर यानी राजदंड भी रखे गए। ताबूत को दफन करने से पहले सभी शाही प्रतीक हटाकर उन्हें टावर ऑफ लंदन (राजमहल) ले जाया जाएगा।


इन देशों के राष्ट्राध्यक्ष शामिल नहीं
जिन देशों से ब्रिटेन के रिश्ते अच्छे नहीं हैं, उनके राष्ट्राध्यक्षों को क्वीन के अंतिम संस्कार में शामिल होने का इनविटेशन नहीं भेजा गया। हालांकि कुछ के एम्बेसेडर्स शामिल होंगे। ईरान, निकारागुआ और नॉर्थ कोरिया के राष्ट्राध्यक्ष नहीं, बल्कि एम्बेसेडर्स शामिल होंगे। रूस और बेलारूस के राष्ट्रपति इसलिए भी शामिल नहीं हो सकते, क्योंकि उन पर ब्रिटेन में ट्रैवल बैन है। म्यांमार, सीरिया, वेनेजुएला और अफगानिस्तान के राष्ट्राध्यक्षों को भी न्योता नहीं दिया गया।

18 सितंबर को लंदन पहुंची थीं प्रेसिडेंट मुर्मू
राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू क्वीन के फ्यूनरल में शामिल होने के लिए 18 सितंबर को लंदन पहुंचीं। यहां वेस्टमिंस्टर हॉल में उन्होंने क्वीन को भारत के लोगों की तरफ से श्रद्धांजलि अर्पित की। उन्होंने लंदन के लैंकेस्टर हाउस में महारानी एलिजाबेथ II की याद में कंडोलेंस बुक पर साइन भी किया। इसके बाद राष्ट्रपति मुर्मू ने बकिंघम पैलेस में ब्रिटेन के नए राजा किंग चार्ल्स III से मुलाकात की।

ब्रिटेन के नए राजा किंग चार्ल्स III के साथ भारत की राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू की ये तस्वीर लैंकेस्टर हाउस में उनकी मुलाकात के दौरान ली गई।
ब्रिटेन के नए राजा किंग चार्ल्स III के साथ भारत की राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू की ये तस्वीर लैंकेस्टर हाउस में उनकी मुलाकात के दौरान ली गई।
पहले ही हो गई थी ‘डी डे’ की प्लानिंग
महारानी के निधन के दिन यानी ‘डी डे’ की पूरी प्लानिंग पहले ही हो गई थी। साल 2021 में कुछ डॉक्यूमेंट्स लीक हुए थे, जिसमें अंतिम संस्कार की तैयारियों का सीक्रेट प्लान था। 'ऑपरेशन लंदन ब्रिज' के मुताबिक ही तैयारियां हो रही हैं। प्लानिंग के मुताबिक, रॉयल परिवार की वेबसाइट का पेज ब्लैक कर दिया गया। महारानी के निधन के बाद 10 मिनट के भीतर वॉइटहॉल के झंडे आधे झुकाने का जिक्र इस ऑपरेशन में किया गया था। ऑपरेशन स्प्रिंग टाइड में प्रिंस चार्ल्स की ताजपोशी का जिक्र था।


सोशल मीडिया पर मकड़ी की चर्चा
क्वीन के ताबूत को जब वेस्टमिंस्टर हॉल से वेस्टमिंस्टर ऐबे लाया गया तो एक तस्वीर वायरल हो गई। दरअसल, क्वीन के कॉफिन पर एक कार्ड रखा था। इस पर एक मकड़ी मंडरा रही थी। एक यूजर ने लिखा- यह दुनिया की सबसे मशहूर मकड़ी है।

स्कॉटलैंड के बाल्मोरल कैसल में 96 साल की क्वीन ने अंतिम सांस ली


ब्रिटेन की महारानी एलिजाबेथ द्वितीय का 8 सितंबर को निधन हो गया था। वह पिछले कुछ वक्त से बीमार थीं। 96 साल की महारानी एलिजाबेथ द्वितीय फिलहाल स्कॉटलैंड के बाल्मोरल कैसल में थीं। यहीं उन्होंने अंतिम सांस ली। वे सबसे लंबे समय तक (70 साल) ब्रिटेन की क्वीन रहीं। पढ़ें पूरी खबर...

25 की उम्र में संभाला था शासन, 17 PHOTOS में देखें प्रिंसेस से क्वीन तक का सफर


महारानी एलिजाबेथ II ने 6 फरवरी 1952 को पिता किंग जॉर्ज की मौत के बाद ब्रिटेन का शासन संभाला। तब उनकी उम्र सिर्फ 25 साल थी। तब से 70 साल तक उन्होंने शासन किया। उन्होंने 2 दिन पहले ‌‌ब्रिटेन की 15वीं PM लिज ट्रस को शपथ दिलाई थी। वे ब्रिटेन के इतिहास में सबसे लंबे समय तक शासन करने वाली पहली महिला सम्राट हैं। पढ़ें पूरी खबर...

नोटों और सिक्कों से हटाई जा सकती है क्वीन की फोटो; राष्ट्रगान में भी बदलाव हो सकता है


ब्रिटेन की महारानी एलिजाबेथ द्वितीय के निधन के बाद अब कई शाही प्रतीक बदले जा सकते हैं। फ्लैग, नोट, सिक्के में अभी तक महारानी की अलग-अलग तस्वीर होती थी। अब इसे हटाकर नए किंग बने प्रिंस चार्ल्स की फोटो लगाए जाने की उम्मीद है। पढ़ें पूरी खबर...

15 देशों की सिंबॉलिक महारानी थीं एलिजाबेथ-II, रोज मिलता था सरकारी कामकाज का ब्योरा


एलिजाबेथ सिर्फ ब्रिटेन ही नहीं, 14 अन्य आजाद देशों की भी महारानी थीं। ये सभी देश कभी न कभी ब्रिटिश हुकूमत के अधीन रहे थे। पढ़ें पूरी खबर...

3 बार भारत आईं क्वीन एलिजाबेथ-II, रिपब्लिक डे पर शाही मेहमान भी बनीं


एलिजाबेथ-II तीन बार भारत आईं। 1961, 1983 और 1997 में वो भारत की शाही मेहमान बनी थीं। 1961 में भारत के गणतंत्र दिवस की परेड में भी शामिल हुई थीं। उनके साथ प्रिंस फिलिप भी थे। पढ़ें पूरी खबर...

बेटे चार्ल्स के अफेयर और बहू डायना के डिप्रेशन से परेशान थीं एलिजाबेथ


70 साल के राज में महारानी एलिजाबेथ की छवि पर कोई दाग नहीं आया, लेकिन इस दौरान शाही परिवार में फूट और मनमुटाव चलता रहा। परिवार में भरोसा टूटता, सवाल उठते तो एलिजाबेथ संभालने की कोशिश करने लगतीं। हर बार कामयाब भी हुईं। इसके सबसे बड़े किरदार क्वीन के बड़े बेटे प्रिंस चार्ल्स रहे। 40 साल पहले कैमिला पार्कर के साथ उनके अफेयर से परिवार का ताना-बाना बिगड़ना शुरू हुआ। इसके बाद इसमें उनकी पत्नी प्रिंसेस डायना, बेटे हैरी, बहू केट और मेगन के नाम शामिल होते गए। पढ़ें पूरी खबर...