logo

World Hindi Day 10 जनवरी को ही क्यों मनाया जाता है? जानिए इसका इतिहास और महत्व

Why is World Hindi Day celebrated only on 10 January? Know its history and importance
 
World Hindi Day 10 जनवरी को ही क्यों मनाया जाता है? जानिए इसका इतिहास और महत्व


हर साल 10 जनवरी को दुनियाभर में विश्व हिंदी दिवस मनाया जाता है. दुनियाभर में हिंदी के प्रति उत्साही लोगों द्वारा हिंदी के महत्व को याद रखने और एक भाषा के रूप में इसके सम्मान के लिए World Hindi Day मनाया जाता है. भले ही दुनियाभर में अंग्रेजी को बोलने वाले लोगों की संख्या सबसे अधिक है. लेकिन हिंदी एक ऐसी भाषा है, जिसे बोलने और समझने वाले लोग आपको दुनियाभर में मिल जाएंगे. हमारे देश के लोगों के लिए हिंदी मान, सम्मान और अभिमान की भाषा है.


विश्व हिंदी दिवस की शुरुआत 1949 में संयुक्त राष्ट्र महासभा (UNGA) में पहली बार हिंदी बोली जाने की वर्षगांठ के रूप में की गई थी. इसके बाद 1975 में तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने पहले विश्व हिंदी सम्मेलन का उद्घाटन किया था. तब से लेकर आज तक दुनिया के विभिन्न हिस्सों में हिंदी सम्मेलन आयोजित किए जाते हैं. हालांकि, पहली बार विश्व हिंदी दिवस 10 जनवरी, 2006 को मनाया गया था. इस फैसले का ऐलान तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के द्वारा किया गया था.

क्या है विश्व हिंदी दिवस का महत्व?
इस दिन का मकसद भारतीय भाषा के बारे में जागरूकता पैदा करना और इसे दुनियाभर में वैश्विक भाषा के रूप में प्रचारित करना है. विश्व हिंदी दिवस भारतीय भाषा के इस्तेमाल के बारे में जागरूकता पैदा करने और हिंदी भाषा के उपयोग और प्रचार को लेकर भी किया जाता है.

कैसे मनाया जाता है ये दिन?
विदेश मंत्रालय इस दिन हर साल हिंदी को प्रमोट करने के लिए कई तरह के कार्यक्रमों और गतिविधियों का आयोजन करता है. कभी-कभी इस अवसर को चिह्नित करने के लिए भारतीय डाक विभाग द्वारा विशेष डाक टिकट जारी करके भी यह दिन सेलिब्रेट किया जाता है. स्कूलों में इस दिन डिबेट, चर्चा, हिंदी कविता पाठ, साहित्य कक्षाएं, नाटक, क्विज और इस तरह के कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं. हिंदी क्लब समेत कई संगठन भी वाद-विवाद और चर्चा करते हैं.