logo

सिरसा जिले की बेटियों ने सौंपा केंद्रीय मंत्री कृष्णपाल गुज्जर को ज्ञापन

यूजीसी पीएचडी दाखिला अधिनियम-2022 तुरंत प्रभाव से लागू करे विश्वविद्यालय
 
े
WhatsApp Group Join Now
सिरसा। चौधरी देवी लाल विश्वविद्यालय में सिरसा जिले की लड़कियों ने भाई-भतीजा आधारित पीएचडी दाखिला प्रकिया बंद कर मैरिट आधारित दाखिला प्रक्रिया अपनाने और यूजीसी पीएचडी दाख़िला अधिनियम 2022 तुरंत प्रभाव से लागू करने बारे विश्वविद्यालय की प्रशासनिक भवन में एक दिवसीय सांकेतिक धरना प्रदर्शन किया। 
साथ ही साथ उन्होंने ऊर्जा व भारी उद्योग केंद्रीय मंत्री कृष्ण पाल गुज्जर से मिलकर भी अपनी बात रखी और विश्वविद्यालय प्रशासन द्वारा पीएचडी दाखिला प्रकिया में की जा रही मनमानी से अवगत करवाया। 
चौधरी देवी लाल विश्वविद्यालय के रजिस्ट्रार डा. राजेश कुमार बंसल के माध्यम से कुलपति डा. अजमेर सिंह मलिक को छात्राएं पहले ही कई बार ज्ञापन व अपनी मांगों के समाधान की गुजारिश कर चुकी है, लेकिन अभी तक कोई सकारात्मक कार्यवाही नहीं की गई है। रेखा रानी ने बताया कि इस उक्त मांग के बारे में विश्वविद्यालय प्रशासन का कड़े शब्दों में कहना है कि यूजीसी नियम-2022 लागू होने से विश्वविद्यालय पर वित्तीय बोझ बढ़ेगा, जिसके चलते ये नियम लागू नहीं किया जा सकता। 
छात्राओं ने बताया कि जब ग्रांट ही केंद्र व राज्य सरकार से आती है तो किस वित्तीय बोझ की बात विश्वविधायलय प्रशासन कर रहा है, उनका  तर्क समझ से परे है। वे पहले भी विश्वविद्यालय के कुलपति से मिल कर इस बारे में बात कर चुके हैं, परन्तु उनकी मंशा समाज को लेकर विशेषकर छात्र विरोधी स्पष्ट नजर आती है, क्योंकि वे किसी भी छात्र की बात सुनने को तैयार ही नहीं है। लगातार विश्वविद्यालय का ग्रेड गिरता जा रहा है, क्योंकि यहां शोध की सम्भावनाओं का अनुमान यूजीसी नियम-2022 जैसे नियमों को ना लागू करने से लगाया जा सकता है। 
क तरफ  सरकार बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का नारा देती है और दूसरी तरफ  उच्च शिक्षण संस्थानों का ऐसा रुख बेटियों की शिक्षा में सहायक ऐसे नियमों को लागू ना कर उनके उच्च शिक्षा प्राप्त करने में रोड़े अटकाने का काम करने के साथ साथ उनको पीएचडी करने से रोक रही है । केंद्रीय मंत्री कृष्ण पाल गुज्जर ने छात्राओं को आश्वाशन दिया है की जल्द ही उनकी इस जायज मांग को पूरा किया जाएगा और रेगुलेशन-2022 को लागू करवाया जाएगा। इस मौके पर नवनीत कौर, पारुल, रवि प्रोग्रेसीव स्टूडेंट फ्रंट हिसार व हांसी से पूनम, सरोज, अंजलि, रवि, मयंक, जितेन्द्र, नेहा, रवीना, प्रियांशु, मंजीत, चंद्रमोहन, अजय सहित छात्र व छात्राएं मौजूद रहे।