logo

Latest Update Election 2024: 97 करोड़ मतदाता, 10.5 लाख पोलिंग स्टेशन, पार्टियों को बताना होगा अपराधियों को क्यों दिया टिकट

 
Latest Update Election 2024: 97 करोड़ मतदाता, 10.5 लाख पोलिंग स्टेशन, पार्टियों को बताना होगा अपराधियों को क्यों दिया टिकट
WhatsApp Group Join Now

चुनाव आयोग लोकसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान कर रहा है. देश में इस बार के चुनाव में 97 करोड़ मतदाता शामिल होंगे. इनके लिए देशभर में 10.5 लाख पोलिंग स्टेशन बनाए जाएंगे. चुनाव आयोग ने राजनीतिक पार्टियों को अखबारों में विज्ञापन देकर यह बताना होगा उन्होंने अपराधियों को टिकट क्यों दिया है. इस संबंध में एक बार नहीं बल्कि तीन बार विज्ञापन देना होगा और ऐसे लोगों को टिकट दिए जाने के पीछे की वजह को बताना होगा.


चुनाव की तारीखों का ऐलान करते हुए देश के मुख्य निर्वाचन आयुक्त राजीव कुमार ने कहा कि चुनाव का पर्व, देश का गर्व है. उन्होंने कहा कि मौजूदा लोकसभा का कार्यकाल 16 जून को खत्म हो रहा है. सभी राज्यों में समीक्षा करने के बाद हम एक यादगार और निष्पक्ष चुनाव सभी की भागीदारी के साथ सुनिश्चित कराएंगे. हमारे पास 97 करोड़ रजिस्टर वोटर हैं. 10.5 लाख पोलिंग स्टेशन हैं. अब तक हम 17 लोकसभा चुनाव और 400 से ज्यादा राज्य चुनाव करा चुके हैं.

49.7 करोड़ पुरुष और 47.1 करोड़ महिला वोटर
मुख्य चुनाव आयुक्त ने कहा कि पिछले एक साल साल के भीतर करीब 11 चुनाव कराए गए हैं. हर जगह शांतिपूर्वक चुनाव हुए. कोर्ट केसेस कम हुए. फेक न्यूज पर एक्शन लेने के तरीके में बढ़ोतरी हुई है. भारत के चुनाव पर पूरी दुनिया की नजर है. 1.82 करोड़ नए वोटर इस बार जुड़े हैं. 49.7 करोड़ पुरुष वोटर और 47.1 करोड़ महिला वोटर हैं. 82 लाख लोग ऐसे हैं जो 85 साल से ऊपर के हैं. 2 लाख 18 हजार लोग ऐसे हैं जिनकी उम्र 100 से अधिक है. 1.82 करोड़ फर्स्ट टाइम वोटर हैं.


महिला वोटरों की संख्या में बढ़ोतरी हुई है
चुनाव आयोग ने कहा, महिला वोटरों की संख्या में बढ़ोतरी हुई है. महिला वोटरों की संख्या पुरुष से ज्यादा है. ऐसे वोटर जिनकी उम्र 2024 में किसी भी वक्त 18 साल होने वाली है उनके भी आंकड़े हमारे पास हैं. हमें विश्वास है कि यूथ न सिर्फ वोट करेंगे बल्कि वोटरों की संख्या बढ़ाने में हमारी मदद भी करेंगे.

चुनाव में हिंसा और खून-खराबे के लिए कोई जगह नहीं
मुख्य चुनाव आयुक्त ने कहा कि चुनाव में खून-खराबे और हिंसा के लिए कोई जगह नहीं है. हमें जहां कहीं से भी हिंसा की कोई सूचना मिलेगी, हम उनके खिलाफ कार्रवाई करेंगे. अफवाह फैलाने वालों पर कार्रवाई भी करेगा. फेक न्यूज चलाने वालों पर एक्शन लिया जाएगा. आयोग सच और झूठ की जानकारी भी देगा. उन्होंने आगे कहा कि चुनाव प्रचार के दौरान राजनीतिक दल को नफरती भाषण देने से बचना चाहिए. राजनीतिक दलों को धार्मिक टिप्पणी करने से बचना चाहिए.