logo

MUMBAI में बैठकर करते थे एटीएम फ्रॉड, तीन युवक पकड़े

मंहगे मोबाइल के शौक ने बनाया चोर, अब खाएंगे जेल की हवा
 
े
WhatsApp Group Join Now
नाम पता वेरिफिकेशन करने के बहाने ओटीपी मांगकर देते थे साइबर फ्रॉड को अंजाम 

 
सिरसा । जिला की साइबर पुलिस स्टेशन की टीम ने जांच के दौरान महत्वपूर्ण सुराग जुटाते हुए बीती 20 सितंबर 2023 को ऐलनाबाद के गांव तलवाड़ा खुर्द निवासी एक महिला के साथ हुई लाखों रुपए की एटीएम फ्रॉड की वारदात को सुलझाते हुए एटीएम फ्रॉड गिरोह के तीन आरोपियों को मुंबई से गिरफ्तार किया है। आरोपियों के कब्जे से एप्प्ल का मोबाइल व 31 हजार रुपये बरामद किए हैं। शुरूआती जांच में सामने आया है कि मुंबई पुलिस ने भी आरोपियों को पहले एटीएम फ्रॉड में पकड़ा था तथा उनसे 60 एटीएम कार्ड बरामद किए थे। 


इस बारे में जानकारी  देते हुए डीएसपी जगत सिंह ने बताया कि गिरफ्तार किए गए आरोपियों की पहचान मोहम्मद तोहिद आईसा मंजिल आंनद कोलीवाड़ा मुंबई, मोहम्द तोसिफ निवासी मुबरा अमृनगर, मुंबई व मोहम्द जुनैद अली निवासी नूरी बाग संजय नगर, मुंबई के रुप में हुई है। 


डीएसपी जगत सिंह मोर ने बताया कि इस संबंध में तलवाड़ा खुर्द निवासी शैफाली मैहता की शिकायत पर साइबर पुलिस स्टेशन सिरसा में अभियोग दर्ज कर जांच शुरु की गई थी । पुलिस अधीक्षक विक्रांत भूषण द्वारा गठित  साइबर पुलिस स्टेशन सिरसा की  टीम ने जांच के दौरान महत्वपूर्ण सुराग जुटाते हुए आरोपियों को काबू कर लिया । डीएसपी जगत सिंह मोर ने बताया कि बीती 13 सिंतबर 2023 को तलवाड़ा खुर्द निवासी शैफाली मैहता ने ऐलनाबाद के एक्सिस बैंक में खाता खुलवाकर करीब एक लाख 74 रुपए की एफडी के रुप में अपने खाते में जमा करवाए थे । उन्होंने बताया कि 20 सिंतबर 2023 को एटीएम वेरिफिकेशन करने के बहाने एक अज्ञात नंबर से कॉल आई थी,और उसके बाद फोन करने वाले व्यक्ति ने शैफाली मैहता से ओटीपी नंबर लेकर उसके खाते से 1लाख 73 हजार 400 रुपए निकाल लिए। 
-----


ऐसे देते थे वारदात को अंजाम 
डीएसपी जगत सिंह मोर ने बताया कि पुलिस जांच के दौरान सामने आया है कि पकड़े गए आरोपियों में मोहम्मद तोसिफ डाकखाने का कर्मचारी है,और जो एटीएम डाकखाने में कस्टमर के पास भेजने के लिए आते थे, उन्हें कस्टमर के पास भेजने की बजाय अपने दूसरे साथियों को फ्रॉड के लिए दे देता था। मोहम्द तोसिफ एटीएम अपने अन्य साथियों को देने की एवज में प्रत्येक एटीएम के पांच हजार रुपए  लेता था । गिरोह के अन्य साथी एटीएम हाथ में आने के बाद उक्त कस्टमर के दिए गए पते पर संपर्क कर एटीएम वेरीफिकेशन के बहाने ओटीपी नंबर पूछकर न्यू पिन जरनेट कर उसके बैंक खाते में से रुपये निकाल लेते थे। आरोपी तोहिद के खिलाफ तीन मामले, तोसीफ के खिलाफ एक अपराधिक मामला मुंबई में पहले से ही दर्ज है जबकि तीसरे आरोपी जुनैद का अपराधिक रिकार्ड खंगाला जा रहा है ।