logo

LIC Jeevan Azad: आपको ऐसे करेगा फाइनेंशियली फ्री, बन जाएंगे मालामाल

भारतीय जीवन बीमा निगम (LIC) ने एक नया इंश्योरेंस प्लान पेश किया है. 'जीवन आजाद' नाम की ये पॉलिसी कंपनी का एक नया एंडाउनमेंट प्लान है. चलिए जानते हैं इसमें मिलने वाले बेनेफिट्स के बारे में...
 
LIC Jeevan Azad: आपको ऐसे करेगा फाइनेंशियली फ्री, बन जाएंगे मालामाल

Mhara Hariyana News
एलआईसी हर बार अपने ग्राहकों के लिए अनोखे इंश्योरेंस प्लान लाती है. अब कंपनी ने नया एंडाउनमेंट प्लान ‘जीवन आजाद’ पेश किया है. इस व्यक्तिगत बीमा प्लान में लोगों को जीवन बीमा के साथ सेविंग करने का भी मौका मिलेगा. एलआईसी की इस योजना (Plan No. 868) में 5 लाख रुपये तक का बीमा लेने की सुविधा मिलती है.


क्या है जीवन आजाद योजना ?
जीवन आजाद योजना एक इंडिविजुअल इंश्योरेंस प्लान है. इसमें बीमित व्यक्ति को मैच्योरिटी पीरियड तक जहां जीवन बीमा की सुविधा मिलती है. वहीं एंडाउनमेंट योजना की तरह मैच्योरिटी पर एक निश्चित राशि भी दी जाती है. जबकि पॉलिसी अवधि के दौरान बीमाधारक की यदि मृत्यु होती है, तो उसे मृत्यु लाभ भी मिलते हैं.

आज की बड़ी खबरें
कितने का करा सकते हैं बीमा ?
इस योजना के तहत न्यूनतम बीमा राशि 2 लाख रुपये है. जबकि अधिकतम बीमा राशि 5 लाख रुपये रख गई है. अगर 3 लाख रुपये तक का बीमा कराया जाता है, तो बीमाधारक को कोई मेडिकल टेस्ट नहीं कराना होगा, जबकि उससे अधिक की राशि के लिए मेडिकल टेस्ट की जरूरत होगी.

कौन-कौन करा सकता है बीमा ?
इस बीमा पॉलिसी को 90 दिन की उम्र के बच्चे से लेकर 50 साल की आयु तक का व्यक्ति खरीद सकता है. वहीं जीवन आजाद पॉलिसी में न्यूनतम मैच्योरिटी अवधि 15 साल और अधिकतम 20 साल की है.

बच्चों के लिए रिस्क कवर कब ?
इस पॉलिसी को अगर 8 साल से कम उम्र के बच्चों के लिए लिया जाता है, तो उनका रिस्क कवर पॉलिसी स्टार्ट होने के दिन से 2 साल पूरे होने, या 8 साल की उम्र पूरी होने, या 8 साल की उम्र पूरी होने के बाद पॉलिसी की एनिवर्सरी से, इनमें से जो भी पहले होगा, तब से रिस्क कवर यानी मृत्यु लाभ शुरू हो जाएगा.

मैच्योरिटी की अधिकतम उम्र क्या ?
इस पॉलिसी को अगर बच्चे के नाम से लिया जाता है, तो मैच्योरिटी की न्यूनतम उम्र 18 वर्ष होगी. वहीं व्यस्क व्यक्तियों के लिए पॉलिसी मैच्योरिटी की अधिकतम उम्र 70 साल होगी.

कैसे देना होगा प्रीमियम ?
इस पॉलिसी के लिए प्रीमियम का भुगतान मासिक, तिमाही, छमाही और सालाना आधार पर किया जा सकता है. व्यक्ति चाहे तो प्रीमियम भुगतान करने का तरीका भी चुन सकता है, जैसे कि वो किसी कार्ड, ऑनलाइन, चेक या यूपीआई किस तरह से पेमेंट करना चाहता है.

कितने साल देना होगा प्रीमियम ?
इस योजना में प्रीमियम भुगतान की अवधि पॉलिसी के पीरियड से 8 साल घटाकर तय होगी. मसलन अगर आप 20 साल की अवधि के लिए बीमा लेते हैं तो आपको प्रीमियम भुगतान 12 साल करना होगा. अगर आपकी पॉलिसी 15 साल की है, तो प्रीमियम पेमेंट 7 साल करना होगा.

बीमा मैच्योरिटी पर क्या मिलेगा ?
अगर बीमाधारक बीमा की मैच्योरिटी अवधि पूरी करता है, तो बीमा के अंत में उसे पूरी बीमा राशि यानी न्यूनतम 2 लाख और अधिकतम 5 लाख रुपये मिल जाएगी. यदि पॉलिसी अवधि के दौरान उसकी मृत्यु हो जाती है तो उसके नॉमिनी को बीमा राशि मिलेगी. मृत्यु की स्थिति में नॉमिनी को मिलने वाली राशि बीमा राशि यानी सम एश्योर्ड से अधिक या वार्षिक प्रीमियम के 7 गुना के बराबर हो सकती है. इस स्थिति में नॉमिनी को किया जाने वाला भुगतान बीमाधारक की मृत्यु तक भरे गए कुल प्रीमियम का कम से कम 105 प्रतिशत अवश्य होगा.

वहीं बच्चों की बीमा पॉलिसी में यदि बीमा अवधि के दौरान मृत्यु हो जाती है तो बीमा कराने वाले व्यक्ति को सारा प्रीमियम रिफंड कर दिया जाएगा. इसमें टैक्स, एक्स्ट्रा प्रीमियत और राइडर का प्रीमियम शामिल नहीं है.