logo

केरल की यूनिवर्सिटी ने छात्राओं को दी बड़ी राहत, अब पीरियड्स के दिनों की मिलेगी ‘छुट्टी’!

University of Kerala gives big relief to girl students, now they will get 'holiday' for periods!
 
केरल की यूनिवर्सिटी ने छात्राओं को दी बड़ी राहत, अब पीरियड्स के दिनों की मिलेगी ‘छुट्टी’!


केरल की एक यूनिवर्सिटी में पढ़ने वाली छात्राएं अटेंडेंस की कमी के दौरान अतिरिक्त छूट के रूप में ‘माहवारी राहत’ का फायदा उठा सकती हैं. छात्राओं की लंबे समय से चली आ रही मांग को ध्यान में रखते हुए Kerala की प्रसिद्ध कोचीन यूनिवर्सिटी ऑफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी (CUSAT) ने प्रत्येक सेमेस्टर में छात्राओं की अटेंडेंस में कमी के लिए अतिरिक्त दो प्रतिशत की छूट की मंजूरी दी है. ऐसे में पीरियड्स की वजह से अगर कोई छात्रा यूनिवर्सिटी नहीं जाती है, तो उसकी अटेंडेंस कम नहीं होगी, क्योंकि वह ‘माहवारी राहत’ का फायदा उठा सकती है.


एक स्वायत्त यूनिवर्सिटी, CUSAT में विभिन्न विभागों में 8000 से ज्यादा स्टूडेंट्स हैं और उनमें से आधे से अधिक लड़कियां हैं. संयुक्त रजिस्ट्रार द्वारा जारी एक आदेश में कहा गया, ‘महिला छात्रों को मासिक धर्म लाभ के अनुरोधों पर विचार करने के बाद, वाइस-चांसलर ने शैक्षणिक परिषद को रिपोर्ट करने के अधीन, प्रत्येक सेमेस्टर में महिला छात्रों की अटेंडेंस में दो प्रतिशत की अतिरिक्त छूट की स्वीकृति देने का आदेश दिया है.’

स्टूडेंट यूनियन की मांग हुई पूरी
यूनिवर्सिटी के सूत्रों के अनुसार, पिछले कुछ समय से विभिन्न स्टूडेंट यूनियन छात्राओं को मासिक धर्म लाभ दिए जाने के लिए दबाव बना रहे थे. इस संबंध में एक प्रस्ताव औपचारिक रूप से वाइस-चांसलर को हाल ही में प्रस्तुत किया गया था. इसे मंजूर किए जाने के बाद एक आदेश जारी किया गया. संपर्क करने पर CUSAT के एक अधिकारी ने कहा कि प्रत्येक छात्रा के लिए अलग-अलग छूट होगी क्योंकि यह उसकी उपस्थिति पर निर्भर करेगा.

कैसे लाभ ले सकेंगी छात्राएं?
CUSAT के अधिकारी ने कहा, ‘यह प्रत्येक छात्रा के लिए अलग होगा. प्रत्येक छात्रा मासिक धर्म लाभ के रूप में अपनी कुल उपस्थिति के दो प्रतिशत का दावा कर सकती है. इसलिए आदेश में छुट्टियों की सटीक संख्या नहीं दी गई है.’ यह आदेश यूनिवर्सिटी में पढ़ने वाली सभी स्ट्रीम की महिला छात्रों पर लागू होगा. इसके तत्काल प्रभाव से लागू होने की उम्मीद भी है.

यूनिवर्सिटी के स्टूडेंट यूनियन की चेयरपर्सन नमिथा जॉर्ज ने इस बात को लेकर खुशी जताई कि उनकी मांगों को बिना आपत्ति उठाए कबूल कर लिया गया. उन्होंने कहा, ‘नियमों के मुताबिक CUSAT स्टूडेंट्स का एग्जाम में हिस्सा लेने के लिए हर सेमेस्टर 75 फीसदी अटेंडेंस होना जरूरी है. लेकिन नए आदेश से छात्राओं को इसमें दो प्रतिशत की छूट मिलेगी. इस तरह अब उन्हें 73 फीसदी अटेंडेंस पर भी एग्जाम देने दिया जाएगा.’