logo
Social Media पर अफवाह फैलाने पर कार्रवाई: सिरसा के एसपी ने डीएसपी के नेतृत्व में बनाई टीम; थाना प्रभारी भी रखेंगे निगाह
हरियाणा के सिरसा में सोशल मीडिया पर फर्जी खबरें और अफवाहें फैलाने वालों को अब जेल जाना पड़ सकता है।
 
हरियाणा के सिरसा में सोशल मीडिया पर फर्जी खबरें और अफवाहें फैलाने वालों को अब जेल जाना पड़ सकता है।

Mhara Hariyana News: 

हरियाणा के सिरसा में सोशल मीडिया पर फर्जी खबरें और अफवाहें फैलाने वालों को अब जेल जाना पड़ सकता है। सोशल मीडिया के माध्यम से झूठी तथा बेबुनियाद खबरें और अफवाहें फैला कर समाज में सांप्रदायिक दंगे, भ्रम, घृणा, दहशत और दुश्मनी फैलाने वालों को 3 साल तक की सजा हो सकती है।

सिरसा के एसपी डॉ. अर्पित जैन ने इस संबंध में बताया कि डीएसपी मुख्यालय साधुराम के नेतृत्व में पुलिस टीम सोशल मीडिया पर जिला पुलिस से संबंधित फर्जी व आधारहीन खबरों की जांच कराएगी। झूठी खबर परोसने वाले लोगों पर आपराधिक मुकदमा दर्ज किया जाएगा। झूठी और बेबुनियाद खबरें समाज में अशांति फैलाने और सांप्रदायिक व धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाती हैं, जोकि अपराध की श्रेणी में आता है।

उन्होंने बताया कि सोशल मीडिया पर झूठी तथा बिना किसी पुष्टि के भ्रामक प्रचार करने वालों पर नजर रखने के लिए डीएसपी साधु राम की अध्यक्षता में साइबर थाना के एक्सपर्ट शामिल किए गए हैं, जो जिला से संबंधित सोशल मीडिया पर सभी खबरों पर नजर रखेंगे तथा झूठी अफवाह फैला कर समाज को भ्रमित करने वालों के खिलाफ अभियोग दर्ज कर कड़ी कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि ज्यादातर लोग सोशल मीडिया पर एक्टिव रहते हैं, इस दौरान कुछ लोग समाज में भ्रम तथा अफवाह फैलाने के लिए पोस्ट तैयार कर सोशल मीडिया पर डाल देते हैं, जिससे घरों में बैठे लोगों के बीच दहशत फैल जाती है।

डॉ अर्पित जैन ने जिला के सभी थाना प्रभारियों को निर्देश दिए गए हैं कि वे फेसबुक, टि्वटर तथा इंस्टाग्राम इत्यादि पर साइबर हेल्प डेस्क की मदद से पैनी नजर रखें तथा झूठी व बेबुनियाद खबरें सोशल मीडिया पर प्रसारित कर समाज में भ्रम तथा दहशत फैलाने वालों के खिलाफ कड़ी कानूनी कार्रवाई करें।