logo
प्रस्तावित चौटाला लिंक माइनर न बनाने की मांग को लेकर डबवाली हलकां के 16 गांवों के किसान मिलेंगे सीएम से
डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला अपने निजी हितों को तवज्जो देते हुए इस नहर का निर्माण करवाना चाहते है, ताकि उनके खेतों में पानी की कमी न रहे।
 
sirsa

Mhara Hariyana News, Sirsa

सिरसा। अवैध नहर निर्माण को लेकर संघर्ष कर रहे डबवाली हलकां के 16 गांवों के किसानों का प्रतिनिधिमंडल आज यहां निजी रेस्तरां में पत्रकारों से रूबरू हुआ।
पत्रकार वार्ता में किसान नेता वेदपाल डांगी ने कहा कि डबवाली के गांव मौजगढ़, मसीतां, लखुआना, अबूबशहर, गिदडख़ेड़ा, गंगा, सुखेराखेड़ा, जंडवाला बिश्नोईयां, लंबी, कालुआना, मोडी, गोदिकां, नया राजपुरा माजरा, गोबिंदगढ़, सकताखेड़ा सहित 20 गांवों के किसान चाहते है कि प्रस्तावित चौटाला लिंक माईनर का निर्माण न किया जाए और मौजूदा व्यवस्था पहले की भांति बरकरार रखी जाए। लेकिन इसमें डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला बाधा उत्पन्न कर रहे है। ऐसा इसलिए क्योंकि दुष्यंत अपने निजी हितों को तवज्जो देते हुए इस नहर का निर्माण करवाना चाहते है, ताकि उनके खेतों में पानी की कमी न रहे। दुष्यंत की इस नीति में प्रत्यक्ष-अप्रत्यक्ष सभी दलों के नेता सहयोग कर रहे है।


इस अवसर पर किसान नेता चौधरी मदनलाल भांभू ने कहा कि सरकार की तरफ से प्रस्तावित नया हैड बनाने की प्रक्रिया प्रारंभ की गई है, जिसके अंतर्गत एक नया हैड गांव अबूबशहर तहसील डबवाली के एरिया में बनाने की योजना है, जो कि मौजगढ़ हैड से निकलने वाले दोनों माइनरों को डिस्टर्ब करेगी। इसी के साथ मौजगढ़ हेड से निकलने वाले दो माइनरों को नए तरीके से रि-मॉडलिंग करके छोटा किया जा रहा है, जिससे मौजूदा समय में चल रहे माइनरों का साइज कम हो जाएगा। उन्होंने कहा कि अगर ये प्रस्तावित कार्य पूरा हो जाता है तो इससे 20 गांव प्रभावित होंगे। प्रदेश सरकार के इस प्रस्ताव के विरोध में किसान पिछले कई दिनों से लघु सचिवालय डबवाली में धरना दिए हुए है लेकिन किसी भी प्रतिनिधि व अधिकारी ने सुनवाई नहीं की।


वेदपाल डांगी ने कहा कि पिछले दिनों जब हम उपायुक्त से मिले थे, तो उनसे आश्वासन मिला था कि  इस दिशा में सार्थक प्रयास होंगे और मुख्यमंत्री से मिलने का समय दिलवाया जाएगा। अगर हमें मुख्यमंत्री से मिलने दिया जाता है, तो ठीक, अन्यथा किसान संगठनों के साथ मिलकर बड़ा आंदोलन करने के लिए मजबूर होंगे। किसानों ने सीधे तौर पर कहा कि पहले तो सीएम के जनता दरबार में गुहार लगाएंगे, यदि हमारी उचित मांगे पूरी नहीं हुई तो वह विरोध का रूख अपनाएंगे। इस मौके पर जगसीर सिंह, लवप्रीत, अजय नेहरा, पवन नेहरा, अमन, विकल कुमार, सतपाल, जसविंद्र चहल, दर्शन सिद्धू, बलदेव सिंह, जगविंद्र मखा, पाल विर्क, नरेंद्र सिंह, आशीष कुमार सहित अन्य किसान प्रतिनिधि मौजूद थे।