logo
प्रिंसिपल इनकम टैक्स कमिशनर राकेश गोयल ने किया श्री बाबा तारा जी कुटिया का भ्रमण
श्री बाबा तारा जी की समाधि पर नवाया शीश और शिवालय में  पूजा अर्चना कर किया जलाभिषेक
 
Principal Income Tax Commissioner Rakesh Goyal visited Shri Baba Tara Ji Kutia

Mhara Hariyana News: 
सिरसा

प्रिंसिपल इनकम टैक्स कमिशनर गुरूग्राम  राकेश गोयल ने आयकर बार एसोसिएशन सिरसा पदाधिकारियों के साथ श्री बाबा तारा जी कुटिया का भ्रमण किया। उन्होंने श्री बाबा तारा जी की समाधि पर शीश नवाया साथ ही शिवालय में पहुंचकर पूजा अर्चना की और जलाभिषेक किया।

पंडित सुभाष तिवारी और रोहित जोशी ने पूजन संपन्न करवाया। गुफा देखकर वे मंत्रमुग्ध हो गए और एक साथ 12 ज्योर्तिलिग के दर्शन कर भावविभोर हो उठे। उन्होंने कहा कि यह सिद्ध स्थल है जहां पर भगवान शिव की साक्षात अनुभूति होती है और ऐसा लगता है कि मानो स्वयं भगवान शिव भक्तों को आशीर्वाद प्रदान कर रहे हो।


प्रिंसिपल इनकम टैक्स कमिशनर गुरूग्राम  राकेश गोयल, आईटीओ हिसार आर के गर्ग, सुरेश कुमार आयकर अधिकारी सिरसा, आयकर बार एसोसिएशन सिरसा के प्रधान अधिवक्ता अशोक गोयल, अधिवक्ता भागीरथ गुप्ता, अधिवक्ता राजीव गुप्ता आदि श्री बाबा तारा जी कुटिया में पहुंचे जहां पर  सिरसा के विधायक, पूर्व गृहराज्यमंत्री गोपाल कांडा के अनुज कुटिया के मुख्य सेवक एवं गोबिंद कांडा ने प्रिंसिपल इनकम टैक्स कमिशनर गुरूग्राम राकेश गोयल का स्वागत किया।

इस मौके पर कुटिया की ओर से प्रबंध निदेशक पूनम सेठी, कुटिया के सेवक जयनंदन सिंगला उर्फ जय भाई जी, अलिशबा, विधायक के पीए हरिप्रकाश शर्मा, सुरेंद्र दत्त आदि मौजूद थे। गोबिंद कांडा ने उन्हें श्री बाबा तारा जी के जीवन और उनके चमत्क ारों के बारे में विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने बताया कि शिवालय में स्थापित शिवलिंग अनूंठा और चमत्कारी है। यह शिवलिंग नर्वदा नदी से निकला हुआ हैै।

साथ ही उन्होंने विशाल शिव प्रतिमा, नंदी, शिवालय के बारे में भी विस्तार से जानकारी दी।
प्रिंसिपल इनकम टैक्स कमिशनर गुरूग्राम  राकेश गोयल और उनके साथ आए श्रद्धालुओं ने सबसे पहले कुटिया में श्री बाबा तारा जी की समाधि पर जाकर शीश नवाया। इसके साथ ही शिवालय में पहुंचकर जलाभिषेक किया।

पंडित सुभाष तिवारी और रोहित जोशी ने पूजन संपन्न करवाया। बाद में पत्रकारों से बातचीत करते हुए प्रिंसिपल इनकम टैक्स कमिशनर गुरूग्राम  राकेश गोयल ने बताया कि यह सिद्ध स्थल है जहां पर आकर साक्षात भगवान शिव की अनुभूति होती है, वे दो बार कैलाश मानसरोवर की यात्रा कर चुके है जैसे अनुभूति वहां पर होती है ठीक वैसी ही यहां पर आकर हुई है।

यहां पर आकर जब भक्त भगवान शिव का स्मरण करता है तो वह समाधि की अवस्था में पहुंच जाता है। साथ ही मन प्रफुल्लित हो उठता है। उन्होंने कहा कि यह सिद्ध मंदिर है यहां मंत्र जाप करने से भगवान के आशीर्वाद की प्राप्ति होती है। यहां पर आकर माया के विकार खत्म हो जाते हैं।