logo
खाद्य सुरक्षा नियमों से अवगत हुए स्ट्रीट वेंडर्स
छह दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम से हो रहे लाभान्वित
 
sirsa news hindi

Mhara Hariyana News:
सिरसा।

केंद्र सरकार की दीनदयाल उपाध्याय योजना के तहत संचालित शहरी आजीविका केंद्र सिरसा की ओर से मुल्तानी कॉलोनी धर्मशाला में स्ट्रीट वेंडर्स के चल रहे प्रशिक्षण केंद्र के तहत शनिवार को उन्हें स्वच्छता अभियान व बैंक प्रबंधन की ओर से वित्तीय सहायता उपलब्ध करवाने के संदर्भ में विस्तृत जानकारी दी गई। शनिवार को प्रशिक्षण कार्यक्रम के आरंभ में नगरपरिषद सिरसा के प्रतिनिधि के तौर पर मोनिका मेडम ने स्ट्रीट 


वेंडर्स से कहा कि जिनका लाइसेंस बना हुआ है, वह उनके व्यवसाय के लिए बेहद आवश्यक है। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार की इस योजना का मकसद स्ट्रीट वेंडर्स के भविष्य को सुखद बनाना है। उन्होंने बताया कि स्ट्रीट वेंडर्स के लाभ के लिए न केवल केंद्र, राज्य सरकार बल्कि स्थानीय जिला प्रशासन भी पूरी तरह से संवेदनशील है और उनके लाभ के लिए विभिन्न योजनाओं को अमलीजामा पहनाया जा रहा है। 


    इस अवसर पर शहरी आजीविका केंद्र सिरसा के संचालक कमल सैनी ने सभी प्रशिक्षण लेने वाले स्ट्रीट वेंडर्स को उनके अधिकारों और कर्तव्यों के बारे में जानकारी दी। सैनी ने बताया कि वे अपने व्यवसाय के दौरान सरकार के नियमों की भी पूरी तरह से पालना करें।

उन्होंने कहा कि खाद्य सुरक्षा से जुड़े कानून सख्त हो चुके हैं। कमल सैनी ने उन्हें सचेत करते हुए कहा कि यदि इसके प्रति उन्होंने कोई लापरवाही बरती और किसी नागरिक के स्वास्थ्य को उनके द्वारा बेचे गए खाद्य सामग्री से परेशानी होती है, तो उनपर कानूनी कार्रवाई भी हो सकती है। उन्होंने कहा कि जिस प्रकार वाहन चलाने के लिए चालक प्रशिक्षण प्रमाण पत्र जरूरी होता है, उसी प्रकार रेहडी-फड़ी वाले के लिए एफएसएसआई सर्टिफिकेट जरूरी है।

कमल सैनी ने कहा कि प्रशिक्षण कार्यक्रम संपन्न होने के बाद सभी स्ट्रीट वेंडर्स को प्रमाण पत्र दिए जाएंगे जो उनके व्यवसाय के हिसाब से काफी लाभप्रद साबित होंगे। उल्लेखनीय है कि इस छह दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्र म का आरंभ बीती 14 सितंबर को नगरपरिषद सिरसा की आयुक्त डॉ. किरण सिंह ने की थी और शासन प्रशासन की ओर से स्ट्रीट वेंडर्स के बेहतर जीवन यापन के लिए भविष्य में लागू की जाने वाली योजनाओं की जानकारी दी थी।