logo
मातृशक्ति उद्यमिता योजना के तहत स्वरोजगार के लिए तीन लाख रुपये तक ले सकते हैं ऋण : उपायुक्त पार्थ गुप्ता
हरियाणा सरकार द्वारा महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए मातृशक्ति उद्यमिता योजना के तहत स्वरोजगार के लिए तीन लाख रुपये तक का ऋण मुहैया करवाया जा रहा है।
 
हरियाणा सरकार द्वारा महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए मातृशक्ति उद्यमिता योजना के तहत स्वरोजगार के लिए तीन लाख रुपये तक का ऋण मुहैया करवाया जा रहा है।

Mhara Hariyana News
सिरसा
हरियाणा सरकार द्वारा महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए मातृशक्ति उद्यमिता योजना के तहत स्वरोजगार के लिए तीन लाख रुपये तक का ऋण मुहैया करवाया जा रहा है। इस योजना के तहत समय पर किस्तों का भुगतान करने पर तीन वर्षों तक सात प्रतिशत ब्याज अनुदान राशि हरियाणा महिला विकास निगम द्वारा दी जाएगी।


उपायुक्त पार्थ गुप्ता ने बताया कि हरियाणा सरकार ने महिलाओं को स्वावलंबी बनाने व स्वरोजगार देकर आत्मनिर्भर बनाकर उनकी आर्थिक व सामाजिक स्थिति में सुधार लाने के लिए मातृशक्ति उद्यमिता योजना को शुरू किया गया है। इस उद्देश्य से हरियाणा महिला विकास निगम द्वारा मातृशक्ति उद्यमिता योजना चलाई गई है। इस योजना के तहत बैंकों के माध्यम से महिलाओं को तीन लाख रुपये तक का ऋण स्वरोजगार के लिए दिया जाता है।


उन्होंने बताया कि जो महिला हरियाणा की स्थाई निवासी है और जिनकी पारिवारिक वार्षिक आय पांच लाख रुपये से कम है वह इस योजना की पात्र हैं। इसके लिए आवेदन करने वाली महिला की आयु 18 से 60 वर्ष के बीच होने चाहिए। इस योजना के तहत समय पर किस्तों का भुगतान करने पर तीन वर्षों तक सात प्रतिशत ब्याज अनुदान राशि हरियाणा महिला विकास निगम द्वारा दी जाएगी।


हरियाणा महिला विकास निगम की जिला प्रबंधक डा. दर्शना सिंह ने बताया कि इस योजना के तहत स्वरोजगार के लिए कोई भी महिला ऋण लेकर अपना व्यवसाय शुरू कर सकती है। इस योजना के तहत डेयरी, ऑटो रिक्शा, टैक्सी, थ्री व्हीलर, छोटा सामान ढोने वाला वाहन, सैलून, ब्यूटी पार्लर, बुटीक, फोटोकॉपी की दुकान, पापड़ बनाना, अचार बनाना, हलवाई की दुकान, फूड स्टाल, आइसक्रीम बनाने के यूनिट, बिस्कुट बनाना तथा बैग बनाना सहित कैंटीन सर्विस आदि अनेक तरह के व्यवसाय शुरू कर सकती है। इस योजना का लाभ लेने के लिए निर्धारित दस्तावेजों के साथ आवेदन पत्र जमा कराना होता है।

इन दस्तावेजों में आधार कार्ड, राशन कार्ड, परिवार पहचान पत्र, दो पासपोर्ट साइज फोटो, रिहायसी प्रमाणपत्र, प्रोजेक्ट रिपोर्ट, ट्रेनिंग सर्टिफिकेट आदि शामिल है। इस योजना के तहत महिलाओं को नए रोजगार के अवसर प्रदान होंगे और आत्मनिर्भर बनेंगी। उन्होंने अधिक से अधिक महिलाओं को इस योजना का लाभ उठाने का आह्वान किया है