logo

चाइनीज कंपनी की पॉलिसी के नाम पर डीलर्स से की जा रही है ठगी: संदीप मिढ़ा

डीलर्स पर 24 प्रतिशत पेनाल्टी लगाकर खातों में की गई है हेराफेरी
 
े
WhatsApp Group Join Now
सिरसा। चाइनीज मोबाइल निर्माता कंपनी की मैनेजमेंट संभाल रहे अधिकारी व कर्मचारी कंपनी की पॉलिसी के नाम पर डीलर्स के साथ ठगी कर रहे हैं। कंपनी का लोगो इस्तेमाल कर डीलर्स से ब्लैंक चैक लेकर उनका मिस यूज कर रहे हंै, जबकि कंपनी की ऐसी कोई पॉलिसी नहीं है। और तो और शिकायत के बाद भी कंपनी के अधिकारी अपनी जिम्मेवारी से पल्ला झाड़ रहे हैं। 
 
उक्त आरोप सिरसा के 7 पीडि़त मोबाइल विक्रेताओं ने शनिवार को मीडिया से रू-ब-रू होते हुए लगाए। मीडिया से रू-ब-रू होते हुए मोबाइल विक्रेता संदीप मिढा ने बताया कि साल 2017-18 में चाइनीज मोबाइल कंपनी द्वारा एमओपी पॉलिसी को अमल में लाया गया था। हालांकि कंपनी की ओर से डीलर्स से किसी प्रकार का ब्लैंक चैक लेने का कोई प्रावधान नहीं था, जबकि कम रेट पर फोन बेचने पर 20 हजार से 50 हजार रुपए तक का जुर्माना लगाने की शर्त थी, जबकि अधिकारियों ने अपनी ओर से ही इस शर्त को 20 हजार से 1 लाख रुपए तक कर दिया। इसके बाद कंपनी के अधिकारियों ने अपनी ओर से ही कंपनी का लोगो लगाकर लेटर पेड पर डीलर्स से ब्लैंक चैक लिए और फिर उनका मिसयूज कर शहर के 7 मोबाइल डीलर्स में से 6 पर चैक बाऊंस का झूठा केस कर दिया। यही नहीं रेंट के नाम पर भी डीलर्स से खिलवाड़ किया गया। एक बारगी तो रेंट की राशि डीलर्स के खाते में डाली गई, लेकिन फिर उसे खाते से निकाल लिया गया। यही नहीं डीलर्स को 24 प्रतिशत पेनाल्टी लगाकर उनके खातों में हेराफेरी की गई। 
उन्होंने बताया कि इस संबंधी वे पुलिस अधीक्षक से भी मिले और कंपनी के कर्मचारियों को बुलाकर बयान भी दर्ज किए गए। कंपनी द्वारा कोई संतोषजनक जवाब न दिए जाने पर व्यापार मंडल के जिला प्रधान हीरालाल शर्मा को भी मामले से अवगत करवाया गया, जिसके बाद उनकी गुडग़ांव में 12 जून 2023 को कंपनी के अधिकारियों व कर्मचारियों से मीटिंग हुई, जिसमें अधिकारियों ने 10 से 15 दिनों में मामले को सुलझाने का आश्वासन दिया, लेकिन करीब एक साल बीतने के बाद भी कोई संज्ञान नहीं लिया गया। संदीप मिढ़ा ने बताया कि 7 मोबाइल डीलर्स में उनका नाम भी था, लेकिन कोर्ट में कंपनी के अधिकारी चैक संबंधी कोई ठोस तथ्य नहीं पेश कर पाए, जिसके बाद कोर्ट ने केस खारिज कर दिया, जबकि अन्य मामले अभी कोर्ट में विचाराधीन है। उन्होंने कहा कि सभी डीलर्स जीटएसटी व इनवॉइस टैक्स देने के लिए तैयार हंै, इसलिए डीलर्स पर लगाई गई पेनाल्टी वापिस दिलाई जाए, कंपनी के कर्मचारियों पर कार्रवाई की जाए, ताकि उन्हें न्यास मिल सके। इस मौके पर सुमित मुंजाल, हितेश जॉली, मनोज कुमार, दीपक कुमार, खुशमिंदर हैप्पी, पंकज गर्ग उपस्थित थे।