logo

हेलन केलर स्कूल संघर्ष समिति हुई मीडिया से रूबरू

कहा, जिला प्रशासन अपने अंडर में चलाए स्कूल का प्रबंधन
 
 
e
WhatsApp Group Join Now
चेतावनी, सुनवाई न होने पर उपायुक्त कार्यालय में सोमवार से चलेगा अनिश्चिकालीन धरना

सिरसा। दृष्टिबाधित हेलन केलर स्कूल में पिछले कुछ समय से अनियमितताएं चल रही हंै। स्टाफ के साथ-साथ बच्चों को भी स्कूल से निकाला जा रहा है। संस्था की चेयरमैन रमता सोनी का व्यवहार स्टाफ व बच्चों के प्रति ठीक नहीं है। जिला प्रशासन को अनेक बार समस्या को लेकर अवगत करवाया गया है, लेकिन अभी तक प्रशासन की ओर से भी कोई संतोषजनक जवाब नहीं मिला है। 
उक्त आरोप हेलन केलर स्कूल संघर्ष समिति के पदाधिकारियों ने मीडिया से रू-ब-रू होते लगाए। सामथ्र्य संस्था के प्रदेशाध्यक्ष कुलदीप आजाद व स्कूल प्रिंसीपल राजेश कुमार ने संयुक्त रूप से बताया कि 2014-2015 में रमता सोनी को चेयरमैन लगाया था। उस वक्त भी स्कूल में काफी विवाद हुआ था, जिसके बाद उन्हें पद से हटा दिया गया। इसके बाद से स्कूल बढिय़ा तरीके से चल रहा था, लेकिन एक बार फिर कुछ समय से रमता सोनी को स्कूल का चेयरमैन बना दिया और जब से उन्हें चेयरमैन बनाया गया है, तब से स्कूल में वही हालात पैदा हो गए हंै। स्टाफ का वेतन समय पर नहीं दिया जा रहा। बच्चों के अकारण नाम काटकर घर भेजा जा रहा है। यही नहीं लंबे समय से स्कूल में बच्चों को पढ़ा रहे स्टाफ को अयोग्य बताकर नौकरी से निकाला जा रहा है, जोकि समझ से परे की बात है। संघर्ष समिति सदस्यों ने चेतावनी देते हुए कहा कि अगर जिला प्रशासन ने इस समस्या के प्रति संजीदगी नहीं दिखाई तो सोमवार से उपायुक्ता कार्यालय में अनिश्चितकालीन धरना लगाया जाएगा।

ये है प्रमुख मांगें:
हेलन केलर स्कूल संघर्ष समिति के सदस्यों ने बताया कि उनकी प्रमुख मांग है कि इस स्कूल को पूर्व की भांति जिला प्रशासन के अंडर लाया जाए। जिन स्टाफ को नौकरी से हटाया गया है, उन्हें वापस रखा जाए व जिन बच्चों के नाम काटे गए हंै, उन्हें दोबारा से स्कूल में रखा जाए। चेयरमैन रमता सोनी को पद से हटाया जाए।

ये बोले अभिभावक:
इस दौरान छतरियां से स्कूल में पढ़ रहे छात्र सत्यम के पिता भागीरथ ने अपनी व्यथा सुनाते हुए कहा कि सात साल से उनका बच्चा यहां पढ़ रहा है और स्कूल का स्टाफ बहुत बढिय़ा है। लेकिन पिछले कुछ समय से रमता सोनी को चेयरमैन बनाने के बाद से स्कूल का माहौल बिगड़ा हुआ है। उन्होंने कहा कि परीक्षाओं का समय है, ऐसे में बच्चों को स्कूल से निकाला जा रहा है, जिससे वे अपनी पढ़ाई को कैसे जारी रख पाएंगे।

ये बोलीं चेयरमैन रमता सोनी:
इस संबंध में स्कूल चेयरमैन रमता सोनी ने बताया कि जिस टीचर पवन को स्कूल से निकाला गया था, उन्होंने स्कूल में चोरी की घटनाओं को अंजाम दिया था। किसी को हटाना कमेटी का निर्णय है, अकेला मेरा नहीं।
राजनीतिक संरक्षण के चलते ये सब हो रहा है। मैं रिजाइन देने के लिए तैयार हूं, आरोप निराधार हंै।