logo

भारत सरकार ने उत्कृष्ट सेवाओं के लिए सिरसा के भाई गुरविंदर सिंह को पद्मश्री अवार्ड से नवाजा

प्रदेश के उप मुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने पद्मश्री अवार्ड मिलने पर स्वयं भाई कन्हैया आश्रम में जाकर भाई गुरविंदर सिंह बधाई दी व सम्मानित किया

 
भारत सरकार ने उत्कृष्ट सेवाओं के लिए सिरसा के भाई गुरविंदर सिंह को पद्मश्री अवार्ड से नवाजा
WhatsApp Group Join Now

सिरसा। हालात चाहे विपरीत हो, चलने के लिए भी दूसरे की मदद की जरुरत पड़े, पर दृढ इच्छा शक्ति से मानव कल्याण की भावना के कारण सिरसा के 55 वर्षीय भाई गुरविंदर सिंह को बच्चा-बच्चा जानता है, इसलिए नहीं कि वे चलने में असक्षम है और व्हील चेयर पर घुमते हैं, बल्कि इसलिए जानता है कि भाई गुरविंद्र सिंह ने बेघर, निराश्रित व असहाय लोगों को रहने का सहारा दिया है। गरीब परिवारों के बच्चों के लिए स्कूल खोला हुआ है और अस्पताल में मरीजों के लिए संस्था के माध्यम से खाना उपलब्ध करवा रहे हैं। उनकी संस्था भाई कन्हैया मानव सेवा ट्रस्ट मुफ्त एंबुलेंस सेवा, पौधारोपण व रक्तदान शिविर लगाने में भी लगी हुई है।

भारत सरकार ने उत्कृष्ट सेवाओं के लिए सिरसा के भाई गुरविंदर सिंह को पद्मश्री अवार्ड से नवाजा

भारत सरकार ने उनकी इन्हीं उत्कृष्ट सेवाओं के लिए उन्हें पद्मश्री पुरस्कार से नवाजा है। पद्मश्री अवार्ड मिलने पर उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला व उपायुक्त पार्थ गुप्ता ने उन्हें बधाई और भविष्य में अधिक ऊर्जा के साथ मानवता भलाई कार्य करने की शुभकामनाएं की है। उपमुख्यमंत्री ने भाई कन्हैया आश्रम में जाकर मुख्य सेवादार गुरविंदर सिंह को पद्मश्री मिलने पर हार्दिक बधाई दी व शॉल से सम्मानित किया। उपमुख्यमंत्री ने कहा कि भाई कन्हैया आश्रम संस्था वास्तव में मानवता की सेवा कर रही है और भाई गुरविंदर सिंह ने समाज सेवा में अनुकरणीय कार्य किया है। साथ ही जिला की सामाजिक व धार्मिक संस्थाओं, गणमान्य व्यक्तियों ने भी भाई गुरविंदर सिंह को बधाई दी है।

जिला प्रशासन ने भाई कन्हैया आश्रम की उल्लेखनीय सेवाओं को देखते हुए मुख्य सेवादार भाई गुरविंदर सिंह को पुरस्कार देने के लिए संस्तुति की थी।

4 जनवरी 1969 को सिरसा में जन्म गुरविंदर सिंह पेशे से कृषि उपकरणों के मैकेनिक रहे हैं और अपने परिवार के साथ सामान्य गुजर बसर करते रहे हैं, लेकिन एक हादसे ने पूरी जिंदगी को एक अलग मोड़ पर लाकर खड़ा कर दिया। स्कूटर पर ससुराल से सिरसा आते समय तेज रफ्तार ट्रक ने टक्कर मार दी और वह गंभीर रुप से घायल हो गए। चार माह के लंबे उपचार के बाद शरीर पूरी तरह स्वस्थ नहीं हो पाया और चिकित्सकों ने एक पैर, पंसली व रीढ की हड्डïी टूटने के बाद उनके शरीर के एक हिस्से के लकवा ग्रस्त होने की जानकारी दी।

निराशा के भाव मिटा अस्पताल से ही नई राह पकड़ने का लिया संकल्प

27 वर्ष की उम्र में दुर्घटना का शिकार हुए गुरविंदर सिंह ने डाक्टर के उन शब्दों से आघात लगा कि 'व्हील चेयर पर रहना पड़ेगा, उठ नहीं पाओगे', लेकिन गुरविंदर सिंह टूटे नहीं। जिंदगी की एक अलग भयावह तस्वीर नजर आई तभी उनके सामने युवाओं की एक मंडली आई जो हर बैड पर दूध और ब्रेड परोस रही थी, बस यहां से उन्होंने कुछ अलग करने का संकल्प ले लिया। डीएमसी लुधियाना से छुट्टïी मिलने के बाद गुरविंदर सिंह ने दोस्तों के साथ सलाह की और बताया कि अब वे व्हील चेयर पर ही चल सकते हैं पर समाज सेवा ही करेंगे। अगली सुबह दोस्तों के साथ मिलकर सिख इतिहास के महान व्यक्तित्व गुरु गोबिंद सिंह के शिष्य भाई कन्हैया के नाम पर समिति पंजीकृत करवाई गई। एक जनवरी 2005 को सिविल अस्पताल में मरीजों को दूध परोसने की सेवा शुरु की गई।

वर्ष 2008 में शुरू हो पाया नया संकल्प

भाई गुरविंदर सिंह का दूसरा संकल्प 23 जुलाई 2008 को तब पूरा हुआ जब उनकी संस्था ने सिरसा में दूर्घटना में घायल लोगों के लिए मुफ्त एंबुलेंस सेवा शुरु कर दी। बस एक नंबर डायल करते ही उनकी गाड़ी घायल को दूर्घटना स्थल से उठाकर सामान्य अस्पताल पहुंचाने लगी। अब उनकी संस्था के पास ऐलनाबाद, रानियां सहित कुल 9 एंबुलेंस हैं जिसमें 3772 दुर्घटना ग्रस्त लोगों को तथा 2426 गर्भवती महिलाओं को अस्पताल पहुंचाया है।  भाई गुरविंद्र सिंह जब दुर्घटना का शिकार हुए थे तो उन्हें एंबुलेंस नहीं मिल पाई थी, तभी उसे उनके मन में यह विचार कौंध रहा था कि वे एंबुलेंस सेवा शुरू करेंगे। आज उनकी एंबुलेंस सेवा सिरसा में सड़क घायलों को एक बड़ी राहत प्रदान कर रही है।

महिला को तो नहीं बचा पाए लेकिन अब सैंकड़ों महिलाओं को मिला आसरा

गुरविंदर सिंह को अक्टूबर 2010 में एक और घटना ने झकझोर कर रख दिया। हुआ यूं कि माल गोदाम रोड, रेलवे स्टेशन पर एक मानसिक रुप से विक्षिप्त महिला अर्धनग्र थी, कूड़ेदान में फैंका गया खाना खा रही थी। उन्होंने उस महिला को किसी आश्रम में भिजवाने का प्रयास किया तो, अमृतसर की एक संस्था का नाम सामने आया, तब संस्था की ओर से बताया गया कि महिला का मेडिकल और पुलिस एफआईआर दर्ज करवाने के बाद उसे संस्था में छोड़ा जा सकता है। किसी कारण से कोई आधिकारिक आईडी न होने के कारण महिला की एफआईआर दर्ज नहीं हो पाई और इसी दौरान महिला की मौत हो गई। इसके बाद गुरविंद्र सिंह ने ऐसी महिलाओं और निराश्रित लोगों के लिए भाई कन्हैया आश्रम खोलने का संकल्प लिया। महिला पोलिटेक्रिक के पीछे दानदाता गुरशरण कालड़ा ने 200 गज जमीन भी दी और 8 मार्च 2011 को भाई कन्हैया आश्रम की आधारशिला ऑल इंडिया पिंगलवाड़ा अमृतसर की चेयरपर्सन बीबी इंदरजीत कौर द्वारा रखी गई। ट्रस्ट ने दानदाताओं की मदद से इसी जगह के नजदीक 400 गज जमीन और खरीदी तथा यहां निराश्रित, मानसिक रुप से कमजोर, बेघर महिलाओं और अनाथ बच्चों के लिए आश्रम बन गया है। ट्रस्ट की ओर से ही सभी सुविधाएं उपलब्ध करवाई गई है ओर पुनर्वास कार्यक्रम के तहत एक व्यवसायिक प्रशिक्षण केंद्र भी खोला गया है। महिलाएं व बच्चों की संख्या बढ़ने के चलते भाई कन्हैया आश्रम द्धितीय का भवन गांव मोरीवाला के पास एक एकड़ में तैयार की गई है, 15 मई 2015 को इसकी आधारशिला रखी गई और 20 मार्च 2016 को मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव वी उमाशंकर द्वारा इसका उद्घाटन किया गया।

गरीब बच्चों के लिए खोला गया भाई कन्हैया पब्लिक स्कूल

भाई कन्हैया ट्रस्ट की ओर से गरीब परिवारों के बच्चों के लिए सीबीएसई पैटर्न पर स्कूल खोला गया है जिसमें किसी भी बच्चे से किसी प्रकार की कोई फीस नहीं ली जा रही। यहां परिवहन सुविधा, स्कूल ड्रेस, पाठ्य पुस्तकें व भोजन की व्यवस्था सब स्कूल की ओर से की जा रही है। निकट भविष्य में स्कूल को और अधिक आगे बढ़ाने का विचार है। इस स्कूल में गरीबी रेखा से नीचे रह रहे परिवारों के अलावा उन बच्चों को भी दाखिला दिया जा रहा है जिन्होंने अपने माता पिता को खो दिया है या किसी छात्र के माता पिता बीमार है और वे बच्चे की शिक्षा का खर्च नहीं उठा सकते।