logo

‘BJP नेता आदेश गुप्ता एक्सपोज’, AAP का आरोप- मेयर रहते बनाई अकूत की संपत्ति

आम आदमी पार्टी के प्रवक्ता सौरभ भारद्वाज ने कहा कि संपत्ति खरीदने में दिक्कत नहीं है. दिक्कत इस बात की है कि लोकायुक्त कोर्ट के बार-बार पूछने पर भी आय के स्रोत नहीं बताए जा रहे हैं.
 
 
‘BJP नेता आदेश गुप्ता एक्सपोज’, AAP का आरोप- मेयर रहते बनाई अकूत की संपत्ति

Mhara Hariyana News, News Desk
आम आदमी पार्टी के प्रवक्ता सौरभ भारद्वाज ने आज पार्टी कार्यालय पर प्रेस कॉन्फ्रेंस की. इस प्रेस कॉन्फ्रेंस में उन्होंने दिल्ली बीजेपी के पूर्व अध्यक्ष आदेश गुप्ता को एक्सपोज करने का दावा किया. सौरभ भारद्वाज ने कहा कि एक बड़ा महत्वपूर्ण मामला सामने आया है. 2022 में हेमंत चौधरी नाम के वकील ने आदेश गुप्ता के बारे में लोकपाल के पास शिकायत कर कहा था कि आदेश गुप्ता जब MCD में अप्रैल 2018 से 2019 तक मेयर थे तो तो एक मजबूत सोल्यूशन नाम की कंपनी बनाई और आदेश गुप्ता और श्याम जाजू के बेटे बराबर के हिस्सेदार और डायरेक्टर थे.


आरोप था कि मेयर पद का दुरुपयोग करते हुए खूब संपत्ति खरीदी और बेची गई थी. आदेश गुप्ता ने आय के स्रोत से अधिक संपत्ति अर्जित की. सौरभ भारद्वाज ने कहा कि इसको लेकर लोकायुक्त हरीश चंद्र मिश्रा ने जांच के आदेश दिया. आदेश गुप्ता को कई बार आय के स्त्रोत बताने के लिए नोटिस दिया, लेकिन जवाब नहीं दिया. 3 नवंबर 2022 को भी उन्होंने नहीं बताया. 19 जनवरी 2023 को फिर से लोकायुक्त की अदालत लगी, लेकिन उन्होंने जवाब नहीं दिया.

आज की बड़ी खबरें
सौरभ भारद्वाज ने कहा कि एसिस्टेंट डायरेक्टर इंवेस्टिगेशन ने रिपोर्ट दी कि एक दर्जन से ज्यादा संपत्तियां खरीदी गईं. पटेल नगर में आदेश गुप्ता के बेटे, पत्नी और मजबूत सोल्यूशन प्राइवेट लिमिटेड के नाम पर खरीदी और बेची गई. कीर्ति नगर में 10 जनवरी 2022 को आदेश गुप्ता ने एक प्रॉपर्टी खरीदी. आदेश गुप्ता की पत्नी अनुराधा गुप्ता ने कई सम्पत्ति बेची. 14 में से 13 सम्पत्ति का संबंध आदेश गुप्ता और श्याम जाजू के परिवार से है.

सौरभ भारद्वाज ने कहा कि MCA की वेबसाइट से हमने मजबूत सोल्यूशन प्राइवेट लिमिटेड का MOU निकला. उस कंपनी के डायरेक्टर और एड्रेस गौर करने वाला है. 1670 शेयर रजत गुप्ता, 1670 यश गुप्ता और दोनों के मिलाकर जितने शेयर थे, इतने ही श्याम जाजू के बेटे के शेयर थे. कंपनी का पता 11 A अशोक रोड NDMC था.


उपराज्यपाल हर मामले में चिट्ठी लिखते हैं तो एक चिट्ठी इस विषय में भी लिखें. MCD की रिपोर्ट भी लीपापोती की है. अवैध निर्माण के मामले में MCD ने उस वक्त नहीं की थी. हम चाहते हैं कि मामले में नए सिरे से जांच की जाए. केंद्र सरकार इन दोनों नेताओं पर कार्रवाई करे, ताकि जो ‘न खाऊंगा न खाने दूंगा’ कहते हैं, उसको साबित कर सकें. कंपनी अक्टूबर 2018 में आदेश गुप्ता के नॉर्थ दिल्ली MCD के मेयर रहते हुए बनाई गई.