logo

‘किसी भी धर्म के मामले में हस्तक्षेप का ठीक नहीं’, रामचरितमानस विवाद पर बोले CM नीतीश

'It is not right to interfere in the matter of any religion', CM Nitish said on Ramcharitmanas controversy
 
‘किसी भी धर्म के मामले में हस्तक्षेप का ठीक नहीं’, रामचरितमानस विवाद पर बोले CM नीतीश

बिहार के सीएम नीतीश कुमार ने रामचरित मानस विवाद पर कहा है कि धर्म के मामलों में कोई हस्तक्षेप ठीक नहीं है. जिसका जो मन करे उसे करना चाहिए. इन सब बातों पर कुछ कहना ठीक नहीं. सीएम नीतीश कुमार समाधान यात्रा पर हैं. मंगलवार को वह अरवल पहुंचे थे. यहां उन्होंने कहा कि सभी धर्मों का सम्मान होना चाहिए और धर्म को लेकर किसी तरह का न तो विवाद करना चाहिए और ना ही उसपर कुछ बोलना चाहिए. हमारा शुरू से मानना रहा है कि कोई किसी भी धर्म को मानने वाला हो, उसमें किसी तरह की दखलअंदाजी नहीं करनी चाहिए. मुख्यमंत्री ने कहा कि जिस ढंग से भी लोग धर्म का पालन करते हैं, पालन करें.


सीएम नीतीश कुमार ने कहा कि सभी धर्मों की इज्जत होनी चाहिए और इसमें किसी तरह से हस्तक्षेप नहीं करना चाहिए. तेजस्वी यादव ने भी इसपर यही बात कही है. इसलिए इसपर क्या विवाद है?

जेडीयू ने भी जारी किया अधिकारिक बयान
इससे पहले सोमवार को जेडीयू ने भी इसपर अपना अधिकारिक बयान जारी किया था और कहा था- जनता दल यूनाइटेड का मानना है कि यह धर्म पर बोलना धर्म गुरुओं का काम है, राजनेताओं का काम नहीं है. यही कारण है कि हम किसी भी राजनेता द्वारा धर्म विशेष पर दिए गए आपत्तिजनक बयान का विरोध करते रहे हैं. हमारी पार्टी कभी भी धर्म एवं जाति को राजनीतिक लाभ के लिए प्रयोग नहीं करती और यह हमारा ट्रैक रिकार्ड रहा है

महागठबंधन में महाभारत
दरअसल बिहार में शिक्षामंत्री चन्द्रशेखर के रामचरित मानस पर विवादित बयान के बाद महागठबंधन में तकरार हो रहा है. शिक्षा मंत्री के रामचरितमानस को नफरत फैलाने वाला किताब बताने के बाद जेडीयू उनसे माफी की मांग कर रही है. जबकि आरजेडी ने उनके बयान का समर्थन किया है.


‘रामचरितमानस नफरत फैलाने वाला ग्रंथ’
शिक्षा मंत्री ने बीते बुधवार को पटना में नालंदा खुला विश्वविद्यालय के दीक्षांत समारोह में कहा था- रामचरितमानस समाज में नफरत फैलाने वाला ग्रंथ है. यह समाज में पिछड़ों, महिलाओं और दलितों को शिक्षा हासिल करने से रोकता है और उन्हें बराबरी का हक देने से रोकता है. शिक्षा मंत्री के बयान के बाद देश में राजनीति गरमा गई. बीजेपी ने सीएम नीतीश कुमार से शिक्षामंत्री को बर्खास्त करने और उनपर मुकदमा दर्ज कराने की मांग की है.