logo

शहरों में भी होंगे ओलंपिक मैच, अशोक गहलोत ने की घोषणा – जनवरी 2023 से होगी शुरुआत

Olympic matches will also be held in cities, Ashok Gehlot announced - will start from January 2023
 
Olympic matches will also be held in cities, Ashok Gehlot announced - will start from January 2023

Mhara Hariyana News

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने जोधपुर के लूणी में पाल गांव पहुंचकर राजीव गांधी ग्रामीण ओलम्पिक्स का राज्य स्तरीय शुभारंभ किया. गहलोत ने इस दौरान घोषणा करते हुए कहा गांवों में ओलंपिक की तर्ज पर अब शहरों में भी ओलम्पिक मैच करवाए जाएंगे.
 

राष्ट्रीय खेल दिवस और हॉकी के जादूगर मेजर ध्यानचंद की जयंती के मौके राजस्थान में राजीव गांधी ग्रामीण ओलम्पिक्स 2022 की शुरुआत हो गई है. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने जोधपुर के लूणी में पाल गांव पहुंचकर ग्रामीण ओलम्पिक्स का राज्य स्तरीय शुभारंभ किया. इस दौरान सीएम गहलोत ने खिलाड़ियों की परेड की सलामी भी ली. वहीं कार्यक्रम में स्थानीय विधायक महेंद्र सिंह बिश्नोई ने पाल गांव में सरकार के सामने एक स्टेडियम बनाने की मांग रखी. वहीं गहलोत ने शुभारंभ के बाद संबोधन में कहा कि सरकार का उद्देश्य खेलों के जरिए लोगों के बीच आपसी भाईचारा बढ़ाने के साथ खेलभावना को मजबूत करना है.


गहलोत ने कहा कि गांव में चाहे कोई भी पार्टी का व्यक्ति हो, सबने मिलकर टीमें बनाई हैं और यह पहला प्रयोग राजस्थान में हो रहा है जिसको लेकर लोगों में उत्साह देखा जा रहा है. इससे राजस्थान में खेल का माहौल बनेगा और नई प्रतिभाओं की खोज होगी. बता दें कि ग्रामीण ओलम्पिक्स का शुभारंभ करने के लिए गहलोत सरकार के सभी मंत्र आज अपने जिलों में गए हुए हैं जहां मंत्री जिला स्तर और विधायक ब्लॉक स्तर पर खेल आयोजनों के उद्घाटन और समापन समारोह में मौजूद रहेंगे.

शहरों में ओलम्पिक्स मैच ही घोषणा
वहीं इस दौरान सीएम गहलोत ने घोषणा करते हुए कहा गांवों में ओलंपिक की तर्ज पर अब शहरों में भी ओलम्पिक मैच करवाए जाएंगे. गहलोत ने कहा कि खेल मंत्री अशोक चांदना ने पिछले साल स्टेट लेवल के मैच एसएमएस स्टेडियम में करवाए थे जिसके बाद अब अगले साल जनवरी 2023 में स्टेट मैच के साथ पूरे राजस्थान के नगर पालिका, नगर परिषद क्षेत्रों में ग्रामीण की तर्ज पर शहरों के लिए भी ओलम्पिक आयोजित किए जाएंगे.

इसके अलावा गहलोत ने घोषणा करते हुए कहा किग्रामीण ओलम्पिक हर साल आयोजित होंगे जिससे सालभर खिलाड़ियों को प्रैक्टिस करने की आदत पड़े. गहलोत ने कहा कि आयोजन के बाद गांव के युवा अपना क्लब बना सकते हैं और किसी एनजीओ की भी मदद ले सकते हैं. इसके अलावा क्रीड़ा परिषद की अध्यक्ष कृष्णा पूनिया ने इस दौरान कहा कि यह खेल दुनिया का सबसे बड़ा आयोजन है जिससे राजस्थान में खेलों को बढ़ावा मिलेगा.