logo

हरियाणा बेरोजगारी में टॉप पर, 2 लाख से ज्यादा पद रिक्त पड़े : डॉ. सुशील गुप्ता

बेराजगारी के कारण युवा जमीन बेचकर विदेशों की तरफ पलायन करने को मजबूर : डॉ. अशोक तंवर
 
x
WhatsApp Group Join Now
सीएम खट्टर युवाओं के रोजगार के लिए इजराइल भेजा रही, जबकि पंजाब सरकार विदेशों में गए युवाओं को वापस बुला रही : अनुराग ढांडा

 चंडीगढ़। 
s
आम आदमी पार्टी ने प्रदेशस्तरीय बदलाव यात्रा के चौथे दिन आप नेताओं ने हरियाणा में बेरोजगारी के मुद्दे पर खट्टर सरकार को घेरा। चौथे दिन प्रदेश अध्यक्ष और राज्यसभा सांसद डॉ. सुशील गुप्ता पलवल में रहे। प्रदेश प्रचार समिति के अध्यक्ष डॉ. अशोक तंवर फतेहाबाद, वरिष्ठ प्रदेश उपाध्यक्ष अनुराग ढांडा रेवाड़ी और प्रदेश उपाध्यक्ष चित्रा सरवारा जगाधरी में रहीं।
s
डॉ. सुशील गुप्ता ने कहा कि हरियाणा बेरोजगारी में नंबर वन है। 2 लाख से ज्यादा पद हरियाणा में रिक्त हैं। इनमें 71,000 पद शिक्षा विभाग में खाली पड़े हैं, प्रारंभिक शिक्षा विभाग में 42,000 और माध्यमिक शिक्षा विभाग में 29,000 पद खाली पड़े हैं। इसके अलावा पुलिस विभाग में 21500, परिवहन विभाग में 10000, पशुपालन विभाग में 5500, सार्वजनिक स्वास्थ्य इंजीनियरिंग विभाग में 5000, अग्निशमन विभाग में 3320 और चिकित्सा शिक्षा एवं अनुसंधान में 3000 पद रिक्त पड़े हैं। हरियाणा सरकार युवाओं को रोजगार देने में नाकाम साबित हुई है।

 

s
 उन्होंने कहा हाल ही में हाईकोर्ट ने हरियाणा सरकार को फटकार लगाई है कि आंकड़ों को खेल खेलना बंद करें और बताएं कि हरियाणा में रोजगार के लिए क्या किया जा रहा है। भाजपा सरकार के राज में लगातार पेपर लीक हो रहे हैं, पिछले 10 सालों में न जाने कितने युवाओं पर के मौके चले गए, परीक्षा देकर रिजल्ट का इंतजार कर रहे हैं और आज उनकी क्वालीफिकेशन की उम्र ही निकल गई है।

डॉ. अशोक तंवर ने कहा कि हरियाणा में 2 लाख सरकारी पद खाली पड़े हैं, लेकिन लोगों को रोजगार नहीं दे रही। बेराजगारी के कारण युवा अपनी जमीन को बेचकर विदेशों की तरफ पलायन करने को मजबूर हैं। आंकड़े बताते हैं कि सीएम सीटी करनाल से हर साल 3500 युवा विदेशों की ओर पलायन कर रहे हैं। इसके अलावा डोंकी की रास्ते अपनी जान को जोखिम में डाल रहे हैं। जिसकी जिम्मेदार हरियाणा सरकार है, क्योंकि रोजगार और शिक्षा को लेकर हरियाणा सरकार की नीतियां सही नहीं है। जिसका खामियाजा प्रदेश में युवाओं को भुगतना पड़ रहा है।

वरिष्ठ प्रदेश उपाध्यक्ष अनुराग ढांडा ने कहा कि प्रदेश सरकार युवाओं को रोजगार देने में असमर्थ रही है। सीएम खट्टर कह रहे हैं कि हरियाणा के 10 हजार युवाओं के रोजगार के लिए इजराइल भेजा जाएगा। एक तरफ पंजाब की आम आदमी पार्टी की सरकार विदेशों में गए युवाओं को मौका दे रही है कि आप अपने ही देश में रहकर यहीं नौकरी करके अपना घर चला सकते हैं। वहीं दूसरी तरफ हरियाणा की खट्टर सरकार युवाओं को रोजगार देने में असमर्थ रही है और अब हरियाणा के युवाओं को इजराइल और हमास के बीच चल रहे युद्ध में झोंकना चाहती है। इससे भाजपा सरकार की नाकामी का पता चलता है।

प्रदेश उपाध्यक्ष चित्रा सरवारा ने कहा कि वर्तमान में हरियाणा बहुत बुरी स्थिति से गुजर रहा है। हरियाणा बेरोजगारी में नंबर वन है, 33% युवा काम नहीं कर रहा या पढ़ ही नहीं रहा, हर तीन में से एक युवा दिशाहिन है और युवा अपनी जमीन को बेचकर विदेशों की तरफ पलायन करने को मजबूर हैं। इसके अलावा डोंकी की रास्ते अपनी जान को जोखिम में डाल रहे हैं। जिसकी जिम्मेदार हरियाणा सरकार है। हरियाणा सरकार युवाओं को रोजगार देने में नाकाम साबित हुई है। वहीं पंजाब की आम आदमी पार्टी की सरकार ने मात्र डेढ़ साल में 37000 युवाओं को नौकरी दे दी है।