logo

'न करुंगा, न करने दूंगा': वियतनाम में बाइडन बोले- मोदी से भारत में मानवाधिकार पर हुई बात कांग्रेस ने ली चुटकी

 
'न करुंगा, न करने दूंगा': वियतनाम में बाइडन बोले- मोदी से भारत में मानवाधिकार पर हुई बात कांग्रेस ने ली चुटकी
WhatsApp Group Join Now

Mhara Hariyana News, New Delhi : भारत यात्रा के बाद अमेरिका के राष्ट्रपति जो Biden वियतनाम पहुंचे। यहां उन्होंने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित किया। कहा कि मैंने मोदी के साथ मानवाधिकारों के सम्मान और एक मजबूत व समृद्ध देश के निर्माण में नागरिक संस्थाओं और स्वतंत्र प्रेस की महत्वपूर्ण भूमिका के महत्व को उठाया। अब इसी बयान को लेकर Congress ने रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि मोदी, Biden से कह रहे थे ना प्रेस कॉन्फ्रेंस करूंगा, ना करने दूंगा।

Congress महासचिव जयराम रमेश ने वियतनाम में Biden के संबोधन का जिक्र करते हुए कहा कि अमेरिकी राष्ट्रपति ने प्रधानमंत्री मोदी से मानवाधिकारों और स्वतंत्र प्रेस के बारे में बात की थी। लेकिन मिस्टर मोदी ने Biden से कहा कि ना प्रेस कॉन्फ्रेंस करूंगा, ना करने दूंगा (प्रेस कॉन्फ्रेंस नहीं करेंगे, आपको भी नहीं करने देंगे)। 

रमेश ने कहा कि हालांकि, इसका कोई प्रभाव नहीं पड़ा है। Biden ने जो बातें भारत में मोदी के सामने कही थीं, वहीं वह वहां कर रहे हैं। दरअसल, रमेश का हमला वियतनाम की आधिकारिक यात्रा पर गए Biden के बयान के बाद आया है। उन्होंने (Biden) पीएम मोदी से मानवाधिकारों, नागरिक समाज की भूमिका और स्वतंत्र प्रेस का सम्मान करने की बात कही थी।

इससे पहले भी, Congress महासचिव जयराम रमेश ने आरोप लगाया था कि अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की द्विपक्षीय बैठक के बाद विदेशी मीडिया को दोनों नेताओं से सवाल नहीं पूछने दिया गया। उन्होंने जो बाइडेन की टीम के हवाले से यह दावा किया था और कहा था कि वियतनाम में मीडिया के सवालों का जवाब देंगे। जयराम रमेश ने यह भी कहा था कि इसमें कोई चौंकने वाली बात नहीं है क्योंकि प्रधानमंत्री मोदी के राज में इसी तरह लोकतंत्र चलता है।

वियतनाम में बोले राष्ट्रपति Biden

अमेरिकी राष्ट्रपति जो Biden ने रविवार को कहा था कि उन्होंने भारत-अमेरिका साझेदारी को मजबूत करने के तरीकों पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के साथ पर्याप्त चर्चा की और उनके नेतृत्व और नई दिल्ली में जी-20 शिखर सम्मेलन की मेजबानी के लिए उन्हें धन्यवाद दिया।

Biden ने यहां वियतनाम की राजधानी में संवाददाताओं से कहा था कि उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी के साथ मानवाधिकारों के सम्मान के महत्व को भी उठाया।

अमेरिकी राष्ट्रपति के रूप में भारत की अपनी पहली यात्रा पर नई दिल्ली आए Biden ने मोदी के साथ व्यापक बातचीत की थी। उन्होंने 31 ड्रोन की भारत की खरीद और जेट इंजनों के संयुक्त विकास में आगे बढ़ने का स्वागत करते हुए द्विपक्षीय प्रमुख रक्षा साझेदारी को गहरा और विविधतापूर्ण करने का संकल्प व्यक्त किया।

Biden ने यहां एक संवाददाता सम्मेलन में कहा था कि मैं एक बार फिर प्रधानमंत्री मोदी को उनके नेतृत्व और उनके आतिथ्य तथा जी-20 की मेजबानी के लिए धन्यवाद देना चाहता हूं। उन्होंने और मैंने इस बारे में पर्याप्त चर्चा की है कि हम पिछले जून में प्रधानमंत्री की व्हाइट हाउस यात्रा के दौरान भारत और अमेरिका के बीच बनी साझेदारी को कैसे मजबूत करना जारी रखेंगे।

उन्होंने कहा था कि जैसा कि मैं हमेशा करता हूं, मैंने मोदी के साथ मानवाधिकारों के सम्मान और एक मजबूत व समृद्ध देश के निर्माण में नागरिक संस्थाओं और स्वतंत्र प्रेस की महत्वपूर्ण भूमिका के महत्व को उठाया।

मोदी और Biden की द्विपक्षीय वार्ता के बाद शुक्रवार को जारी संयुक्त बयान के अनुसार, नेताओं ने इस बात पर फिर से जोर दिया कि स्वतंत्रता, लोकतंत्र, मानवाधिकार, समावेशन, बहुलवाद और सभी नागरिकों के लिए समान अवसर के साझा मूल्य हमारी सफलता के लिए महत्वपूर्ण हैं जिसका हमारे देश आनंद लेते हैं और ये मूल्य हमारे संबंधों को मजबूत करते हैं।

Biden ने वियतनाम में जी-20 शिखर सम्मेलन के दौरान भारत में की गईं महत्वपूर्ण बैठकों के बारे में भी बात की थी।