logo
हरि-सुमिरन से होता है - राजेन्द्रानन्द महाराज
शब्दवाणी व गीता दोनों ही परमात्मा द्वारा उच्चारित वाणी हैं, ऐसे अन्य धार्मिक ग्रंथ तो संसार में विरले ही होंगे
 
हरि-सुमिरन से होता है - राजेन्द्रानन्द महाराज

Mhara Hariyana News, Sirsa

सिरसा

बिश्नोई सभा सिरसा के 48वें स्थापना दिवस पर बिश्नोई आश्रम, हरिद्वार से पधारे श्रद्धेय स्वामी राजेन्द्रानन्द जी महाराज के पावन सान्निध्य में आयोजित जाम्भाणी हरिकथा प्रवचन में मुख्य अतिथि के रूप में जिला कारागार अधीक्षक सतविन्द्र गोदारा ने शिरकत की तथा सभा के प्रधान खेमचन्द बैनीवाल, सचिव ओ.पी. बिश्नोई व देशकमल बिश्नोई ने बतौर विशिष्ट अतिथि ज्योति प्रज्ज्वलित करके कार्यक्रम का शुभारम्भ किया। इसके उपरान्त कथा व प्रवचन का शुभारम्भ स्वामी राजेन्द्रानन्द जी महाराज के मुखारविन्द से उच्चारित आध्यात्मिक शब्दों व मंत्रों से हुआ। स्वामी जी ने शब्दवाणी, गीता व अन्य धार्मिक ग्रंथों से सम्बन्धित धर्म उपदेशों का वर्णन करते हुए कहा कि महाभारत गाथा से ज्यादातर लोग गलत संदेश ले लेते हैं जबकि इस ग्रंथ से हमें कितनी ही शिक्षाएं मिलती हैं, गीता भी इसी गाथा की अनुपम देन है।

शब्दवाणी व गीता दोनों ही परमात्मा द्वारा उच्चारित वाणी हैं, ऐसे अन्य धार्मिक ग्रंथ तो संसार में विरले ही होंगे। उन्होंने कहा कि प्रात: स्नान हमारी दिनचर्या का महत्वपूर्ण कार्य है तथा हमें नित्य-प्रति बाह्य पवित्रता के साथ-साथ आंतरिक पवित्रता पर भी ध्यान देना चाहिए। मनुष्य की रचना परमात्मा की एक अनुपम कृति है तथा जिस प्रकार शरीर का पोषण भोजन से होता है, आत्मा का पोषण हरि-सुमिरन से होता है। अत: हम परमात्मा का जप करें व गुणगान करें। मुख्य अतिथि सतविन्द्र गोदारा ने अपने सम्बोधन में कहा कि धर्म का प्रचार-प्रसार केवल संतों की जिम्मेवारी नहीं है, हम गृहस्थ लोग भी इसके लिए प्रयास करें।

नशे व अन्य सामाजिक कुरीतियों को दूर करने के लिए मुहिम चलाएं। माता-पिता, अभिभावकगण अपने बच्चों को संस्कारवान बनाने में अपना योगदान अवश्य दें। इससे पूर्व गोदारा दम्पत्ति का मन्दिर परिसर पहुंचने पर लॉर्ड शिवा संस्थान की छात्राओं ने तिलक लगाकर व स्वागत गीत द्वारा उन्हें सम्मानित किया गया। अंत में सभा द्वारा उन्हें स्मृति चिन्ह देकर उनका आभार व्यक्त किया गया।

इस अवसर पर बिश्नोई सभा सिरसा के उपाध्यक्ष कृष्णपाल बैनीवाल, ओमप्रकाश पूनियां, कोषाध्यक्ष राजकुमार बैनीवाल, सहसचिव भूप सिंह कस्वां, जगतपाल कड़वासरा, सेवक दल के प्रधान कृष्ण कुमार सीगड़, सचिव अजय धायल, महासभा के जिला प्रधान रिछपाल बैनीवाल, कार्यकारिणी सदस्य कृष्ण लाल बैनीवाल, हनुमान गोदारा, सुशील बैनीवाल सहित सिरसा शहर व आस-पास के गांवों व ढाणियों से पहुंचे अनेक महिलाएं, पुरूष व बच्चे उपस्थित थे। कथा का समापन आरती व प्रसाद वितरण से हुआ।