logo

Twitter पर हेट कंटेंट और फेक न्यूज को लेकर एलन मस्क लाए नई पॉलिसी

एलन मस्क ने साफ कर दिया है कि वे अभिव्यक्ति की आजादी के खिलाफ बिल्कुल नहीं हैं, लेकिन अब ट्विटर पर नेगेटिव और भड़काऊ ट्वीट पर सख्त एक्शन लिया जाएगा. 
 
Twitter पर हेट कंटेंट और फेक न्यूज को लेकर एलन मस्क लाए नई पॉलिसी

Mhara Hariyana News

 

ट्विटर के नए मालिक एलन मस्क अब कंपनी को पूरी तरह से अपने हिसाब से चलाने में लगे हैं. वे ट्विटर के लिए हर रोज कुछ न कुछ नया करते हुए दिखाई दे रहे हैं. उन्होंने ट्विटर का अधिग्रहण करते हुए बड़े स्तर पर छंटनी शुरू कर दी और बड़े स्तर पर कर्मचारियों को बाहर कर दिया. अब वे ट्विटर के लिए नई पॉलिसी लाए हैं. मस्क ने साफ कर दिया है कि वे अभिव्यक्ति की आजादी के खिलाफ बिल्कुल नहीं हैं, लेकिन अब ट्विटर पर नेगेटिव और भड़काऊ ट्वीट पर सख्त एक्शन लिया जाएगा.


 

मस्क ने ट्वीट में कहा, 'ट्विटर की नई पॉलिसी में अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता है, लेकिन पहुंच की स्वतंत्रता नहीं है. नकारात्मक/घृणास्पद ट्वीट्स को अधिकतम डीबूस्ट किया जाएगा और डिमोनेटाइज किया जाएगा. ट्विटर पर कोई विज्ञापन या अन्य रेवेन्यू का साधन उपलब्ध नहीं होगा. जब तक आप इसे विशेष रूप से नहीं खोजेंगे, आपको ट्वीट नहीं मिलेगा.'

 

बैन अकाउंट्स को फिर से बहाल किया

मस्क अब ट्विटर पर बैन किए गए अकाउंट्स को फिर से बहाल करने का काम भी शुरू कर चुके हैं. उन्होंने हाल ही में अमेरिकी कॉमेडियन कैथी ग्रिफिन और प्रोफेसर जॉर्डन पीटरसन के अकाउंट्स को फिर से बहाल कर दिया है. व्यंगात्मक वेबसाइट बेबीलोन बी के अकाउंट को भी बहाल कर दिया गया है. मस्क ने खुद ट्वीट करके इसकी जानकारी दी थी. हालांकि अभी तक अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप या फिर भारतीय अभिनेत्री कंगना रानौत का अकाउंट बहाल नहीं किया गया है.

बदल गया है Twitter

बता दें कि एलन मस्क के आने के बाद से ट्विटर में बहुत कुछ बदल गया है. कंपनी का अधिग्रहण करने के बाद उन्होंने बड़े स्तर पर छंटनी शुरू कर दी. उन्होंने कंपनी के CEO पराग अग्रवाल सहित बड़े पदों पर कार्य करने वाले अन्य कई अधिकारियों को भी बाहर का रास्ता दिखा दिया. उन्होंने कर्मचारियों को 'हार्डकोर वर्क' कल्चर डेवलप करने का आदेश दिया है. इसके बाद से कर्मचारियों के इस्तीफे की छड़ी लग गई. ट्विटर पर ही #RIPTwitter भी ट्रेंड करने लगा था. 

उन्होंने हाल ही में ट्विटर पर ब्लू टिक को चार्जेबल कर दिया था, मतलब पैसे देकर कोई भी ब्लू टिक ले सकता था. इससे ट्विटर पर फेक अकांउट्स की संख्या बढ़ने लगी थी. जिसे देखते हुए उन्होंने अपने इस फैसले को रद्द कर दिया है. हालांकि उन्होंने संकेत दिए हैं कि वे जल्द ही इससे जुड़ा नया नियम लेकर आएंगे.