logo

जब पैसा लेकर नागरिकता दिलाने का आरोप लगा, पढ़ें ब्रिटेन के किंग चार्ल्स के अफेयर और विवाद

महारानी एलिजाबेथ-II के निधन के बाद उनके बेटे प्रिंस चार्ल्स ब्रिटेन के नए किंग बन गए हैं. उन्हें किंग चार्ल्स-III कहकर बुलाया जाएगा. चार्ल्स शाही परिवार के ऐसे सदस्य रहे हैं जिनके प्यार और विवाद के कई किस्से मशहूर हुए. जिसकी चर्चा सिर्फ ब्रिटेन में ही नहीं दुनियाभर में हुई.
 
महारानी एलिजाबेथ-II के निधन के बाद उनके बेटे प्रिंस चार्ल्स ब्रिटेन के नए किंग बन गए हैं. उन्हें किंग चार्ल्स-III कहकर बुलाया जाएगा. चार्ल्स शाही परिवार के ऐसे सदस्य रहे हैं जिनके प्यार और विवाद के कई किस्से मशहूर हुए. जिसकी चर्चा सिर्फ ब्रिटेन में ही नहीं दुनियाभर में हुई.
WhatsApp Group Join Now

Mhara Hariyana News: जब पैसा लेकर नागरिकता दिलाने का आरोप लगा, पढ़ें ब्रिटेन के किंग चार्ल्स के अफेयर और विवाद1969 में महारानी एलिजाबेथ-II ने चार्ल्स को प्रिंस ऑफ वेल्स का ताज पहनाया गया था, अब उनके निधन के बाद प्रिंस चार्ल्स ब्रिटेन के नए किंग बन गए हैं.

महारानी एलिजाबेथ-II के निधन के बाद उनके बेटे प्रिंस चार्ल्स ब्रिटेन के नए किंग बन गए हैं. उन्हें किंग चार्ल्स-III कहकर बुलाया जाएगा. वहीं, उनकी पत्नी कैथरीन अब डचेस ऑफ कॉर्नवाल कहलाएंगी. चार्ल्स शाही परिवार के ऐसे सदस्य रहे हैं जिनके प्यार और विवाद के कई किस्से मशहूर हुए. जिसकी चर्चा सिर्फ ब्रिटेन में ही नहीं दुनियाभर में हुई.


यूं तो चार्ल्स की शादी 24 जुलाई 1981 को 13 साल छोटी डायना स्पेंसर से हुई थी, लेकिन चार्ल्स का पहले से शादीशुदा कैमिला पार्कर बोल्ज नाम की महिला से अफेयर था. कहा जाता है कि यह बात डायना को मालूम थी और वो शादी को तोड़ना चाहती थीं, लेकिन वो शाही परिवार के खिलाफ जाने का बड़ा कदम उठाने की हिम्मत नहीं कर सकीं.

डायना से तलाक और कैमिला से शादी के बावजूद अफेयर की लम्बी लिस्ट रही
अंतत: 1996 में प्रिंस चार्ल्स और डायना का तलाक हो गया. इसके बाद कैमिला से शादी हो गई. हालांकि इस शादी के बाद भी चार्ल्स का नाम कई महिलाओं से जुड़ा और वो चर्चा में रहे. इनमें स्पेन के ब्रिटिश राजदूत की बेटी जोर्जियाना रशेल, अर्थर वेलेस्ले, मॉडल फियोना वॉटसन, ड्यूक ऑफ वेलिंगटन की बेटी लेडी जेन वेलेस्ले समेत डेविना शेफिल्ड, लेडी सारा स्पेन्शर, लक्जमबर्ग की प्रिसेंस मारिया एस्ट्रीड के अलावा भी कई महिलाओं के नाम शामिल रहे हैं.

पैसा लेकर नागरिकता दिलाने में नाम सामने आया
चार्ल्स की अपनी एक चैरिटी संस्था है, जिसका नाम है प्रिंस ऑफ वेल्स चैरिटेबल फंड. चार्ल्स पर यह आरोप लग चुका है कि उनकी संस्था ने अमीरों से पैसे लेकर उन्हें नागरिकता देने का काम किया है. पिछले साल यह मामला चर्चा में आया जब ब्रिटेन के जाने-माने अखबार ‘डेली मेल’ और ‘द संडे टाइम्स’ ने इस पूरे मामले की जानकारी दी. रिपोर्ट में बताया गया कि कैसे प्रिंस चार्ल्स की संस्था दूसरे देशों के लोगों से पैसे लेकर नाइटहुड सम्मान और नागरिकता देने का काम कर रही है.

इतना ही नहीं, रिपोर्ट में इसका सबूत देने का भी जिक्र किया गया है. रिपोर्ट में सऊदी अरब के एक नागरिक से जुड़े ऐसे दस्तावेज पेश किए जिससे इसकी पुष्टि हुई. मामला चर्चा में आने पर चार्ल्स को अपनी संस्था में बड़े पद से इस्तीफा देना पड़ाा.

आतंकी लादेन के परिवार से मिला दान स्वीकार किया
चार्ल्स का नाम सिर्फ पैसे लेकर नागरिकता देने के मामले में ही सामने नहीं आया बल्कि कई और आरोप लगे. आरोप लगा कि चार्ल्स ने 2013 में आतंकी ओसामा बिन लादेन के परिवार से दान स्वीकार किया. प्रिंस चार्ल्स ने लंदन में अलकायदा चीफ रहे लादेन के सौतेले भाई शेख बकर और शफीक बिन लादेन से मुलाकात की. मुलाकात के दौरान 10 लाख पाउंड लिया था.

पैसे को छिपाकर ऑफशोर कंपनी में लगाने के आरोप
चार्ल्स का नाम पैराडाइज पेपर्स के डॉक्यूमेंट में भी सामने आया. रिपोर्ट में कहा गया कि चार्ल्स ने छिपाकर अपने पैसे ऑफशोर कंपनी में लगाए. ये वो कंपनी थी जो क्लाइमेट चेंज के मुद्दे पर काम करती है.