logo

PAK विदेश मंत्री बिलावल भुट्टो चार मई को आएंगे India, SCO बैठक में लेंगे भाग

पिछले साल ताशकंद में जयशंकर ने नहीं की थी बात
 
 
s
WhatsApp Group Join Now

Mhara Hariyana News, New Delhi, इस्लामाबाद/नई दिल्ली। 
पाकिस्तान के विदेश मंत्री बिलावल भुट्टो जरदारी Pakistan Foreign Minister Bilawal Bhutto Zardari आगामी 4 मई को भारत दौरे india Tour पर नई दिल्ली पहुचेंगे। वो 4-5 मई को गोवा में होने वाली शंघाई कोऑपरेशन ऑर्गेनाइजेशन (SCO) के विदेश मंत्रियों की मीटिंग में भाग लेने के लिए आ रहे हैं। पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय foreign Ministry ने इसकी पुष्टि की है। 2014 के बाद ऐसा पहली बार होगा जब कोई पाकिस्तानी मंत्री भारत आएगा। 2014 में पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ भारत दौरे पर आए थे।

वहीं, बिलावल भुट्टो के भारत दौरे के बारे में जब भारत के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची से बिलावल भुट्टो की इस विजिट के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, 'किसी एक सदस्य पर फोकस करना सही नहीं होगा।'


ताशकंद में आमने-सामने आए थे एस जयशंकर और बिलावल भुट्टो
बीती 29 जुलाई 2022 को भारत और पाकिस्तान के विदेश मंत्री आमने-सामने थे। लेकिन उनमें न कोई बात हुई और न ही आपस में आंखे मिलाई। हालांकि दोनों विदेश मंत्री बेहद नजदीक बैठे थे। तब उज्बेकिस्तान की राजधानी ताशकंद में SCO के विदेश मंत्रियों की बैठक हुई थी। एक मौका ऐसा भी था जब विदेश मंत्री एस जयशंकर S Jai Shankar और पाकिस्तानी विदेश मंत्री बिलावल भुट्टो Bilawal Bhutto Zardari  बिल्कुल अगल-बगल की सीटों पर थे। इसके बावजूद बातचीत तो दूर दोनों के बीच दुआ-सलाम तक नहीं हुई थी।

1 फीट दूरी पर बैठे थे दोनों देशों के विदेश मंत्री
जुलाई 2022 की मीटिंग में SCO के सभी आठ सदस्य देशों के Foreign Minister विदेश मंत्री मौजूद थे। जयशंकर ने समिट से इतर 7 देशों के विदेश मंत्रियों से मुलाकात की, लेकिन बिलावल को नजरअंदाज कर दिया था।

वहीं, जब उज्बेक राष्ट्रपति ने सभी विदेश मंत्रियों के लिए डिनर होस्ट किया, तब बिलावल और जयशंकर अलग-अलग बैठे। जयशंकर jai Shankar ने पाकिस्तानी विदेश मंत्री को छोड़कर सभी से बातचीत की। ग्रुप फोटो के दौरान भी दोनों के बीच 5 फीट से ज्यादा फासला नहीं था। यहां सभी विदेश मंत्रियों ने हाथ मिलाए, लेकिन जयशंकर और जरदारी अलग-अलग ही खड़े रहे।

क्या है SCO और भारत इसमें कब शामिल हुआ...
SCO यानी शंघाई कोऑपरेशन ऑर्गेनाइजेशन का गठन 2001 में हुआ था। SCO एक पॉलिटिकल, इकोनॉमिकल और सिक्योरिटी ऑर्गेनाइजेशन है। भारत, रूस, चीन और पाकिस्तान समेत इसके कुल 8 स्थाई सदस्य हैं। शुरुआत में SCO में छह सदस्य- रूस, चीन, कजाकिस्तान, तजाकिस्तान​​​​​​, किर्गिस्तान और उज्बेकिस्तान थे।